मुजफ्फरपुर, जागरण संवाददाता। मानसून के सक्रिय होने के साथ लगातार बारिश हो रही है। इस बीच शहर के निचले इलाके में एक दर्जन झोपड़ी में पानी प्रवेश कर गया है। इधर डा.राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के मौसम विभाग के नोडल पदाधिकारी डा.ए सत्तार ने बताया कि अगले 24 घंटे तक बारिश की संभावना है। उसके बाद बारिश की रफ्तार कमजोर हो जाएगी। पूर्वी उतर प्रदेश के उपर कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण यह हालात है। शहर के निचले इलाके सिकंदरपुर, बालूघाट, झीलनगर, कर्पूरी नगर इलाके में झोपड़ी में पानी पहुंच रहा है। अगर यही रफ्तार रही तो एक हजार घर पानी की चपेट में आ जाएंगे। जिन घरों में पानी प्रवेश कर रहा वे नदी की पेटी में बने हैं।

गंडक खतरे के निशान पार तो बूढ़ी गंडक व बागमती नीचे

बारिश के कारण जिले से गुजरने वाली नदियों के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है। गंडक नदी रेवा घाट में खतरे के निशान से उपर बह रही है। खतरे का निशान 54.41 मीटर है जबकि जलस्तर 54.45 मीटर पर पहुंच गया है। बूढ़ी गंडक में खतरे का निशान 52.53 मीटर पर है जबिक सिकंदरपुर में जलस्तर 50.80 मीटर पर पहुंच गया है। बागमती का जलस्तर कटौझा में 53.03 मीटर पर है जबकि खतरे का निशान 55.23 पर है।

शिवहर: जिले में मंगलवार की सुबह धूप खिली। पिछले 24 घंटों में बारिश से राहत मिली है। हालांकि, आसमान में बादल छाए हुए है। हवा भी बह रही है। मौसम विभाग के अनुसार दिन में हल्की और मध्यम बारिश का अनुमान है।

दरभंगा : जिले में रूक-रूककर हो रही बारिश के बीच मंगलवार की सुबह धूप खिली। हालांकि विभिन्न इलाकों में लोग जल-जमाव के कारण परेशान रहे।

Edited By: Murari Kumar