मुजफ्फरपुर। कोरोना की दूसरी लहर समाप्त होने और करीब पांच महीने बाद जब श्रद्धालुओं के लिए मंदिरों को खोल दिया गया। इसके पहले ही दिन गुरुवार को बाबा गरीबनाथ के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। सुबह से ही बाबा के मंदिर का मुख्य द्वार भक्तों के लिए खोल दिया गया था। मंदिर के प्रधान पुजारी पं.विनय पाठक ने बताया कि पहले दिन अधिक संख्या में स्थानीय श्रद्धालु ही पहुंचे थे। सुबह से लगातार बारिश और शहर में जलजमाव के बाद भी करीब दो हजार लोगों ने पहले दिन बाबा गरीबनाथ का दर्शन किया।

फूल और प्रसाद दुकानों पर लौटी रौनक : पांच महीने बाद मंदिर भक्तों के लिए खुला तो फूल-माला और प्रसाद की दुकानदार खुश दिखे। बाबा गरीबनाथ मंदिर के बाहर फूल-माला बेचने वाले विक्की मालाकार ने बताया कि सावन में इस बार मंदिर नहीं खुलने के कारण भक्त नहीं आ सके। इस कारण काफी नुकसान हुआ है। मंदिर खुला तो पहले ही दिन भीड़ उमड़ी, अच्छी बिक्री भी हुई।

देवी मंदिर में भी दर्शन को जुटे श्रद्धालु : रमना स्थित देवी मंदिर में भी मां अंबे के दर्शन के लिए श्रद्धालु पहुंचे। मंदिर के प्रधान पुजारी पं.अमित तिवारी ने बताया कि मंदिर की साफ-सफाई करा दी गई है। साथ ही सैनिटाइजर मशीन भी लगाया गया है। उन्होंने श्रद्धालुओं से अपील किया कि कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए सभी मास्क लगाकर आएं और मंदिर परिसर में एक-दूसरे से दूरी बनाए रखें। मां के दर्शन के बाद दूसरे भक्तों को भी मौका दें। अनावश्यक भीड़ न लगाएं। मां बगलामुखी मंदिर, बाबा सर्वेश्वर नाथ मंदिर समेत शहर के विभिन्न मंदिरों में देर शाम तक भक्तों ने देवी-देवताओं का दर्शन कर कोरोना महामारी से देश और शहर को मुक्ति दिलाने की कामना की।

Edited By: Jagran