पश्चिम चंपारण जासं। गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज अस्पताल के चाइल्ड वार्ड में शुक्रवार की देर शाम से शनिवार की सुबह तक दो बच्‍चों की मौत हो गई। शुक्रवार की देर शाम भैसही निवासी ब‍िंदू कुमारी (4) की मौत पर स्वजनों व अन्य ने जमकर बवाल काटा। परिजनों का आरोप था कि वे चिकित्सक द्वारा लिखे गए इंजेक्शन को लेकर वार्ड में घुमते रहे। लेकिन, किसी भी नर्सिंग स्टाफ ने ब'ची को इंजेक्शन नहीं लगाया। जिसके चलते बच्‍ची की मौत हो गई। हालांकि परिजनों ने इसकी लिखित शिकायत अस्पताल प्रबंधन से नहीं की है।

अस्पताल अधीक्षक डॉ. प्रमोद तिवारी ने कहा कि ब‍िंंदू कुमारी व चौमुखा के योगापट्टी निवासी शाही यादव के ब'चे की मौत इलाज के दौरान हुई है । दोनों को गंभीर परिस्थिति में अस्पताल लाया गया था। काफी प्रयास के बावजूद दोनों को बचाया नहीं जा सका । मामले की जांच होगी। बताया जाता हैं कि सिरिसिया ओपी के भैसही निवासी उमेश राम अपनी चार वर्षीय पुत्री बिन्दू कुमारी को शुक्रवार की देर शाम में जीएमसीएच में भर्ती कराया था। वहां मौजूद चिकित्सक ने जांच के बाद इंजेक्शन लिख दिया । पहले परिजन अस्पताल में इंजेक्शन के लिए आधे घंटे तक भटकते रहे । बताया गया कि यह इंजेक्शन अस्पताल में नहीं है तो आनन- फानन में बाहर से इंजेक्शन खरीद कर लाए । उसके बाद इंजेक्शन दिलवाने के लिए वार्ड में तैनात नर्सिंग स्टाफ से मिले । लेकिन किसी ने इंजेक्शन नहीं दिया । तब तक बच्‍ची की मौत हो गई है । बताया कि ङ्क्षबदू को पेट दर्द व बुखार था । वहीं शनिवार की सुबह करीब सात बजे के करीब चौमुखा गांव निवासी शाही यादव व सुशीला देवी के पुत्र की मौत निकू वार्ड में इलाज के दौरान हो गई । लगातार वार्ड में दो ब'चों की मौत के बाद अस्पताल में भर्ती अन्य ब'चों के स्वजन काफी भयभीत हैं।