मुजफ्फरपुर, आनलाइन डेस्क। जिला और आसपास के क्षेत्र के लोगों के लिए रविवार की सुबह राहत भरी साबित हो रही है। यहां रुक-रुक कर बारिश हो रही है। साथ में तेज पुरवा चल रही है। इसकी वजह से तापमान काफी कम हो गया है। मौसम बेहतर हो गया है। लोगों को गर्मी से राहत मिली है। अभी आसमान में बादल छाए हुए हैं। कभी भी बारिश हो सकती है। लोगों के मन में सवाल है कि क्या सुबह वाली स्थिति पूरे दिन रहने वाली है? दिन चढ़ने के साथ ही स्थिति में कोई बदलाव होगा या फिर वही स्थिति रहने वाली है? आइये जानते हैं मौसम विभाग का पूर्वानुमान। 

डा. राजेन्द्र प्रसाद केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा के मौसम विभाग तथा एक्यूवेदर की ओर से जारी पूर्वानुमान में दोपहर तक बादल और बारिश की स्थिति में कोई खास बदलाव की संभावना नहीं है। तात्पर्य यह कि दोपहर तक यूं ही रुक-रुक कर बारिश होती रहेगी। कहीं बूंदाबांदी होगी तो कहीं तेज बारिश। इसके बाद शाम और रात के समय बारिश की संभावना कम है। मौसम विभाग ने कहा है कि पूर्वानुमानित अवधि में वर्तमान मौसमीय परिस्तिथियाें के कारण अभी भी वर्षा की संभावना बनी रहेगी। जिसके चलते अधिकांश जिलों में हल्की वर्षा होने की संभावना है। तराई के कुछ जिलों में मध्यम वर्षा भी हो सकती है। इस अवधि में अधिकतम तापमान 34 से 37 डिग्री सेल्सियस के बीच रह सकता है। जबकि न्यूनतम तापमान 25 से 27 डिग्री सेल्सियस के आस-पास रहने की संभावना है। सापेक्ष आर्द्रता सुबह में 80 से 90 प्रतिशत तथा दोपहर में 40 से 50 प्रतिशत रहने की संभावना है।

पूर्वानुमानित अवधि में औसतन 15 से 20 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से पुरवा हवा चलने का अनुमान है। किसानाें के लिए समसामयिक सुझाव में कहा गया है कि पूर्वानुमानित अवधि में वर्षा की संभावना को देखते हुए तैयार मक्का की फसल की कटनी, दौनी तथा दानों को सुखाने के कार्य में सावधानी बरतने की आवश्यकता है। कीटनाशकों का छिड़काव मौसम साफ रहने पर ही करें। अगात मूंग, उरद की तैयार फलियों की तुड़ाई कर लें। पिछात बोयी गयी मूंग एवं उरद की फसल में पीला मोजैक रोग की निगरानी करें। यह विषाणु द्वारा उत्पन्न होने वाला विनाशकारी रोग है जो सफेद मक्खी (एक रस चूसक कीट) के द्वारा फसल में प्रसारित होता है।

Edited By: Ajit Kumar