मुजफ्फरपुर, जेएनएन। सदर थाना के गोबरसही स्थित आइसीआइसीआइ बैंक लूटकांड का पुलिस ने पर्दाफाश कर लिया है। तीन लुटेरों को गिरफ्तार किया गया। इनके पास से 78 हजार कैश, एयरगन, पिस्टल, कपड़ा और मोबाइल बरामद किया गया। गिरफ्तार लुटेरों में तुर्की बड़ा सुमेरा के राहुल कुमार, तारसन के राहुल कुमार उर्फ चेतन और सदर थाना मधुबनी के सौरभ ठाकुर शामिल है। इनकी गिरफ्तारी सिंडिकेट बैंक से लूट के प्रयास मामले में पकड़े गए लुटेरे ओसामा की निशानदेही पर हुई है।

 ओसामा भी आइसीआइसीआइ बैंक लूटकांड में शामिल था। छापेमारी के दौरान राहुल के घर से पुलिस को 50 हजार कैश, एयरगन और पिस्टल राहुल उर्फ चेतन के पास से 15 हजार रुपये और सौरभ के पास से 13 हजार रुपये बरामद हुए हैं। थानाध्यक्ष मिथिलेश कुमार झा ने बताया कि पूछताछ के बाद लुटेरों को जेल भेज दिया गया। इन सभी ने मिलकर वैशाली में भी फाइनेंस कंपनी के दफ्तर से लूटपाट की थी। वैशाली पुलिस इन लुटेरों को रिमांड पर लेने की कवायद में जुट गई है। सदर पुलिस से संपर्क साधकर आगे की कार्रवाई कर रही है। 

बताया गया कि पांच अक्टूबर को इन तीनों के अलावा चार अन्य लुटेरों ने मिलकर आइसीआइसीआइ बैंक से आठ लाख रुपये लूट लिए थे। 

फुटेज से पकड़ा गया ओसामा

पुलिस ने घटना के बाद बैंक में लगे सीसी कैमरे के फुटेज को खंगाला। इसमें एक लुटेरा बाएं हाथ का अधिक इस्तेमाल करता दिखा। वह लुटेरा सिंडिकेट बैंक से लूट के प्रयास की घटना में भी शामिल पाया गया। छानबीन में उसकी पहचान धरमपुर के ओसामा के रूप में हुई। इस आधार पर उसकी गिरफ्तारी हुई। पूछताछ में उसने पूरी घटना के बारे में पुलिस को जानकारी दी। 

लाइनर की तलाश में छापा

पूछताछ में बताया कि ये लोग धरमपुर के शहियारे के इशारे पर लूटपाट की घटना को अंजाम देते हैं। आइसीआइसीआइ बैंक से लूट में सोनू उर्फ बजरंगी ने लाइनर की भूमिका निभाई थी। उसने ग्राहक के वेश में कई बार बैंक में जाकर रेकी की थी। चप्पे-चप्पे की जानकारी लेने के बाद अपने शागिर्दों के साथ मिलकर धरमपुर में लूटपाट की साजिश रची। घटना के समय सोनू बाहर से रेकी कर रहा था। 

Posted By: Murari Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस