मुजफ्फरपुर(जेएनएन)। हृदयम फाउंडेशन, भारतीय चिकित्सक संघ, आइसीपी, एपीआइ फोरम की ओर से 'सतत चिकित्सा शिक्षा शैक्षणिक कार्यक्रम के तहत 'हृदय रोग के उपचार व अद्यतन विकास उत्तर बिहार के परिप्रेक्ष्य में' विषय पर व्याख्यान का आयोजन किया गया गया। स्टेशन रोड के एक होटल में आयोजित व्याख्यान में डॉ. आशीष ठाकुर ने टेलीमेडिसिन पर चर्चा की। 
 कहा कि यह आवश्यक साधन है, जिससे दूर बैठे चिकित्सक एक दूसरे चिकित्सक से परामर्श कर मरीजों की सेवा बेहतर रूप से कर सकते और बहुत से मरीजों की जान बच सकती। आज से नॉर्थ बिहार कार्डियक नेटवर्क का शुभारंभ किया गया है। इसका उद्देश्य है एक चिकित्सक दूसरे चिकित्सक से जुड़ें, ज्ञान का आदान-प्रदान हो, टेली संपर्क द्वारा सुदूर स्थित चिकित्सक हृदय रोगियों का समुचित इलाज कर सकें। उत्तर बिहार के वैसे सभी चिकित्सक जो सुदूर स्थानों में रहते हैं, जिन्हें ऐसा मौका नहीं मिलता, उन्हें अद्यतन चिकित्सा विज्ञान के विकास की जानकारी हो सके।
 उन्हें इस नेटवर्क से जोड़कर बेहतर सेवा करने का भागीदार बनाएं। इसके लिए शैक्षणिक कार्यक्रम व वार्षिक अधिवेशन होंगे। इसमें हृदय रोग के क्षेत्र में होनेवाले अद्यतन विकास के बारे में चिकित्सक परिचित हो सकेंगे। आयोजन की अध्यक्षता प्रो. (डॉ.) टीके झा, डॉ. वीरेंद्र किशोर व डॉ. कमलेश तिवारी ने की। इसमें शहर केकरीब एक सौ चिकित्सक शामिल रहे।
नॉर्थ बिहार कार्डियक नेटवर्क का शुभारंभ
हृदयम फाउंडेशन के निदेशक डॉ. आशीष कुमार ठाकुर द्वारा नॉर्थ बिहार कार्डियक नेटवर्क शुरू किया गया। इसका उद्घाटन डॉ. टीके झा, डॉ. वीरेंद्र किशोर, डॉ. कमलेश तिवारी, डॉ. बीबी ठाकुर, डॉ. प्रवीर सिन्हा आदि ने संयुक्त रूप से किया।  

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस