पश्चिम चंपारण, जासं। टीकाकरण एवं जांच के प्रति स्वास्थ्य कर्मियों व लोगों का उत्साह बाढ़ पर भारी पड़ रहा है। बाढ़ से घिरे गांव के रास्ते अवरुद्ध जरूर हुए हैं, लेकिन जांच और टीकाकरण प्रभावित नहीं हुआ है। विभागीय जानकारों के अनुसार जिस गांव में टीकाकरण वाहन पहुंचने में दिक्कत हो रही है, वहां वैकल्पिक व्यवस्था के तहत टीका एवं टीका कर्मियों को पहुंचाया जा रहा है। कई गांवों में बाइक से स्वास्थ्य कर्मी टीका लेकर पहुंच रहे हैं और टीकाकरण किया जा रहा है। जिस गांव में पानी अधिक है, वहां पानी का लेवल गिरते हैं स्वास्थ्य कर्मी पहुंच जा रहे हैं। यहां आशा और एएनएम के माध्यम से टीका के लिए लोगों को प्रेरित भी किया जा रहा है। विस्थापित लोगों के लिए जहां हैं वही टीकाकरण टीम पहुंचकर टीका लगा रही है।

विभागीय आंकड़ों के अनुसार जिले में हर दिन करीब 100 केंद्रों पर टीकाकरण हो रहा है। शनिवार को कुल 111 केंद्रों पर टीकाकरण किया गया। जबकि रविवार को 100 से अधिक केंद्रों पर लोगों को टीका लगाया गया। कोरोना जांच कि आंकड़ों पर गौर करें तो 14 जून को करीब 2175 जांच हुआ। 15 जून को करीब 684 लोगों की जांच की गई। 16 जून को यह आंकड़ा बढ कर करीब 1638 हो गया। 18 जून को 1824 जबकि 19 जून को 1860 लोगों के कोरोना की जांच की गई।

अब सुबह 9 से रात्रि 9 बजे तक लगेगा टीका

नगर के उत्तरवारी पोखरा स्थित शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में अब सुबह 9 बजे से रात 9 बजे तक कोरोना का टीका लगेगा। यह व्यवस्था सोमवार से बहाल हो जाएगी। इसके लिए तैयारी पूरी कर ली गई है। अधिकारियों के अनुसार कोरोना का टीका सुबह 10 से शाम 5 बजे तक लगाया जा रहा था। लेकिन सोमवार से सुबह से लेकर रात्रि 9 बजे तक 18 वर्ष से अधिक उम्र के कोई भी व्यक्ति उक्त केंद्र पर पहुंचकर टीकाकरण करा सकता है। यह व्यवस्था केवल उत्तरवारी पोखरा स्थित शहरी उप स्वास्थ्य केंद्र में की गई है। इसके लिए स्वास्थ्य कर्मियों की टीम दो शिफ्ट में तैनात रहेगी।

--बाढ़ की वजह से टीकाकरण प्रभावित नहीं हुआ है। बड़ा वाहन नहीं जाने की स्थिति में बाइक से भी टीका एवं कर्मी पहुंच रहे हैं। फिलहाल सब कुछ ठीक-ठाक है। --डॉ अवधेश कुमार सिंह जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी बेतिया