मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

मुजफ्फरपुर, जेएनएन। नए-नए शौक पूरा करने के लिए किशोरों ने अपराध का दामन थाम लिया है। उसी रास्ते पर ये चलने लगे हैं, जहां एक बार प्रवेश करने के बाद निकलना मुश्किल है। स्मार्टफोन रखने और ब्रांडेड कपड़े पहनने की चाहत किशोरों को इस दिशा में तेजी से लेकर जा रही। हाल के दिनों में लूट और छिनतई मामले में हुई किशोरों की गिरफ्तारी से उक्त बातों का पता लगा है। विगत छह माह में एक दर्जन से अधिक किशोरों को गिरफ्तार कर बाल पर्यवेक्षण गृह में पुलिस द्वारा भेजा गया है। स्कूल और कॉलेजों में पढऩे वाले छात्र भी हाल के दिनों में अपराध का दामन थाम लिया है। कुछ माह पूर्व छिनतई की वारदात में सदर थाने से जेल भेजे गए एक किशोर ने पूछताछ में हैरान करनेवाली बातें बताई थीं।

गर्लफ्रेंड को घुमाने के लिए थामा अपराध का दामन

 पूछताछ में उसने कहा था कि गर्लफ्रेंड को घुमाने और उसका शौक पूरा करने के लिए उसने अपराध की दुनिया में कदम रखा है। यह सुनकर पुलिस भी चौंक गई थी।

स्मैक की लत भी बन रही वजह

शहर में स्मैक की लत भी किशोरों को अपराध की दुनिया में ले जाने की वजह बनती जा रही है। स्मैक खरीदने के लिए पैसा नहीं रहने पर स्कूल-कॉलेज में पढऩे वाले छात्र मोबाइल और चेन छिनतई की घटना को अंजाम दे रहे हैं। छीने गए सामान को बेचकर जो पैसा मिलता है उससे स्मैक खरीदकर अपनी लत को मिटाते हैं।

अहियापुर और मिठनपुरा का इलाका प्रभावित

 अहियापुर और मिठनपुरा का इलाका स्मैक की लत और अपराध की दुनिया में कदम रखने वाले किशोरों से सबसे अधिक प्रभावित है। अहियापुर में हाल के दिनों में छिनतई व लूट की घटनाओं में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है। अधिकांश वारदातों में पीडि़तों के बयान से पता लगा कि घटना को अंजाम देने में किशोर शामिल थे। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप