पूर्वी चंपारण (मोतिहारी), जासं। जिले के स्वास्थ्य महकमे में अनियमितताओं का दौर लगातार जारी है। ताजा मामला सदर अस्पताल से जुड़ा है। बताते हैं कि यहां कुछ ऐसे चिकित्सक भी हैं जो महीनों से गायब हैं। लेकिन फिर भी उनकी नियमित हाजिरी बनती रही है। ऐसा ही एक मामला अस्पताल के शिशु रोग विभाग में प्रतिनियुक्त एक महिला चिकित्सक से जुड़ा बताया जा रहा है । अस्पताल से जुड़े सूत्रों की माने तो पिछले कई महीनों से डयूटी रोस्टर में उनका नाम शामिल नहीं होता है। लेकिन नियमित रूप से उनकी हाजरी बनती रही है । बता दें कि उक्त महिला चिकित्सक की प्रतिनियुक्ति शिशु रोग विभाग में है। सनद रहे कि शिशु रोग में विभाग में फिलहाल उक्त चिकित्सक को मिलाकर तीन चिकित्सक ही उपलब्ध हैं । ऐसे में महिला चिकित्सक का नाम रोस्टर में शामिल नहीं किया जाना व नियमित हाजिरी का बनना गंभीर प्रश्न खड़ा करता है। ऐसा ही एक मामला अस्पताल के प्रसूती विभाग से जुड़ी एक महिला चिकित्सक के बारे में भी बताया जा रहा है।

बताते हैं कि उक्त महिला चिकित्सक मातृत्व अवकाश के नाम पर पिछले 12 महीने से गायब हैं। इधर सूत्रों की माने तो यह पूरा खेल अस्पताल प्रबंधन की मिलीभगत से होता है। अगर सही से जांच की जाए तो कई ऐसे मामले सामने आ सकते हैं । बता दें कि सदर अस्पताल में जिला मुख्यालय सहित जिले के अन्य सुदूरवर्ती इलाकों से लोग बेहतर इलाज की आस में पहुंचते हैं। लेकिन अस्पताल प्रबंधन की कुव्यवस्था के कारण परेशानियों से जूझना पड़ता है।

बोले अधिकारी

सदर अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ. आरके वर्मा ने बताया कि महिला चिकित्सक मातृत्व अवकाश पर थीं । बीच में दो दिनों तक योगदान देने के बाद वे फिर अवकाश पर चली गईं हैं । हाजिरी बनाए जाने के बारे जानकारी नहीं है। अपने स्तर से जांच कर मामले की सत्यता पता करेंगे।

Edited By: Dharmendra Kumar Singh