पश्चिम चंपारण, जेएनएन। एसएसबी ने गुप्त सूचना पर छापेमारी करते हुए नगर अवस्थित कामता चौबे एंड संस पेट्रोल पंप के पास से सोमवार को 10 किलो चरस जब्त किया है। चरस के साथ धंधेबाज को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। धराए धंधेबाज की पहचान बॉर्डर क्षेत्र के इनरवा थाना अंतर्गत इनरवा गांव निवासी 30 वर्षीय असलम अंसारी के रूप में की गई है। एसएसबी 44वीं बटालियन को यह कामयाबी डिप्टी कमांडेंट शैलेश कुमार ङ्क्षसह के नेतृत्व में गठित टीम के प्रयास से मिली है।

 बताया जाता है कि एसएसबी को गुप्त सूचना मिली थी कि नारकोटिक्स लेकर बॉर्डर क्षेत्र से तस्कर निकल चुका है। जिस पर टीम का गठन किया गया। डिप्टी कमांडेंट के नेतृत्व में जवानों ने छापेमारी शुरू की। उधर, एसएसबी ने नाका भी लगा रखा था। इसी क्रम में धंधेबाज पेट्रोल पंप के आसपास से गुजर रहा था और वह पकड़ लिया गया। उसके पास से विभिन्न पैकेटों में रखा हुआ 10 किलोग्राम चरस जब्त कर लिया गया। जब्त चरस की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में दो करोड़ रूपये आंकी गई है। उसके पास से नकद आठ हजार रुपये और एक मोबाइल भी जब्त किया गया है।

 इस अभियान में डिप्टी कमांडेंट के साथ मुख्य आरक्षी सुशील कुमार ओझा, आरक्षी संजय कुमार ङ्क्षसह, अजय कुमार, सोहन पाल सिंह तोमर मुख्य रूप से लगे हुए थे। एसएसबी अधिकारियों ने बताया की धंधेबाज चरस को चेन्नई ले जा रहा था। छानबीन की जा रही है कि इस रैकेट में और कौन-कौन से शामिल है। अधिकारियों ने यह भी बताया की एनसीबी टीम के हवाले धराए तस्कर को किया जाएगा।

नेपाल पुलिस ने गेहूं के खेत से चरस किया बरामद

नेपाल के पर्सा जिला बीरगंज सशस्त्र पुलिस पोखरिया ने सोमवार को करीब 29 किलोग्राम अतिप्रशोधित चरस बरामद किया। इसकी जानकारी इंस्पेक्टर महेंद्र थापा ने दी। बताया कि गुप्त सूचना मिली थी कि अंतरराष्ट्रीय नारकोटिक्स तस्कर गिरोहों में सीमावर्ती ग्रामीण रास्तें चरस लेकर रक्सौल की ओर जाने वाले है। पुलिस ने इंडो-नेपाल बॉर्डर पर सुरक्षा व्यवस्था को सख्त कर दिया। तस्करों ने सुरक्षाकर्मियों के कड़े तेवर और मुस्तैदी को देखते हुए 28.5 किलो चरस गेंहू खेत और झाड़ी में छुपाकर भाग निकले। पुलिसकर्मियों ने सीमावर्ती खेतिहर इलाके में तलाशी लिया। इस दौरान लावारिस हालत में चरस बरामद किया। पुलिस तस्करों की खोजबीन कर रही हैं। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021