रुन्नीसैदपुर (सीतामढ़ी), जासं। सोनबरसा के बाद रून्नीसैदपुर में शुक्रवार को दबंगों ने यहां के एक निवर्तमान मुखिया को गोली मार दी। रुन्नीसैदपुर प्रखंड में 12 दिसंबर को पंचायत चुनाव के लिए मतदान होना है। उससे दो दिन पहले दबंगों ने चुनावी रंजिश में बलुआ पंचायत के निवर्तमान मुखिया प्रभात कुमार यादव को निशाना बनाया। इस चुनाव में उनकी पत्नी गुड़िया कुमारी मुखिया पद की प्रत्याशी हैं। गोलीबारी में जख्मी मुखिया को गंभीर हालत में एसकेएमसीएच मुजफ्फरपुर ले जाया गया है। जहां गंभीर हालत को देखते हुए चिकित्सकों ने भर्ती नहीं लिया और सीधे पटना रेफर कर दिया। मुखिया को जहां गोली मारी गई वह क्षेत्र महिंदवारा थाने के अंतर्गत आता है। महिंदवारा थानाध्यक्ष ने कहा कि छानबीन की जा रही है। दो गोली लगी है। इससे पहले सोनबरसा में मतदान से ठीक एक दिन पहले जिला परिषद की प्रत्याशी बच्चिया खातून के पौत्र समीर रजा को चुनावी रंजिश में गोली मार दी गई थी।

देररात चुनाव कैंपेन के दौरान ही बाइक सवार बदमाशों ने चलाई गोली

जख्मी मुखिया के रिश्तेदारों से मिली जानकारी के अनुसार, गुरुवार की देर रात चुनाव कैंपेनिंग में वे पंचायत के वार्ड संख्या-07 में घूम रहे थे। इस दौरान कई बाइक सवार कभी आगे तो कभी पीछे चक्कर लगा रहे थे। जब वे टूटू बैठा के घर के समीप सड़क किनारे पेशाब कर रहे थे बाइक सवार बदमाशों ने पीछे से उनपर गोली चलाई। गोली उनकी कनपटी को छूती हुई निकल गई। घबरा कर भागे तो उनपर फिर गोली चलाई गई जो उनके बांये जांघ में घुस गई। जख्मी होकर वे सड़क पर ही गिर गए। बदमाश वहां से फरार हो गए।

मुखिया पद को लेकर रंजिश में चचेरे भाई को ठहरा रहे कसूरवार

रिश्तेदारों ने इस घटना के लिए सीधे तौर पर अपने हीं चचेरे भाई तथा पंचायत से मुखिया पद के प्रत्याशी नवीन कुमार यादव को जवाबदेह ठहराया है। पंचायत में वर्ष 2011 से 2016 तक प्रभात कुमार यादव की पत्नी गुड़िया कुमारी मुखिया थीं। वर्ष 2016 से 2021 तक प्रभात कुमार स्वयं मुखिया रहे हैं। आसन्न चुनाव में एक बार फिर से गुड़िया कुमारी प्रत्याशी हैं। नवीन कुमार यादव भी मुखिया प्रत्याशी हैं। पिछले चुनाव में भी नवीन कुमार यादव के भतीजे अमित प्रत्याशी थे तथा उन्हें पराजित होना पड़ा था। प्रभात कुमार के अनुसार, उनकी हत्या की साजिश थी। ईश्वर की कृपा से बच गए। दूसरी ओर, नवीन कुमार यादव ने अपने को निर्दोष बताते कहा है कि घटना देर रात में हुई। उस समय अपने घर में सो रहे थे। उनके खिलाफ यह एक राजनीतिक साजिश है। इस मामले में उन्हें बेवजह फंसाने की साजिश की जा रही है। इस घटना को लेकर अभी प्राथमिकी दर्ज नहीं हो सकी है। फिलहाल, पुलिस को फर्दबयान का इंतजार है।

Edited By: Ajit Kumar