मोतिहारी [सत्येंद्र कुमार झा]। नक्सल प्रभावित क्षेत्र पकड़ीदयाल के मुन्ना कुमार शिक्षक धर्म का पालन कर रहे। वे युवाओं को सिर्फ शिक्षित ही नहीं करते, कॅरियर बनाने में मदद भी करते हैं। किसके लिए कौन सा कॅरियर बेहतर होगा, मार्गदर्शन देते हैं। जरूरतमंद छात्रों को प्रतियोगी परीक्षा संबंधी पुस्तकें व अन्य सामग्री भी उपलब्ध कराते हैं। पिछले 10 वर्षों से निशुल्क चल रहे उनके अभियान से दर्जनों युवाओं ने सफलता हासिल की है।  पकड़ीदयाल के सिरहा गांवनिवासी मुन्ना लक्ष्मीनारायण दुबे कॉलेज में कंप्यूटर साइंस के गेस्ट लेक्चरर हैं। उन्होंने देखा कि बहुत से गरीब होनहार युवा सही मार्गदर्शन नहीं मिलने से सफल नहीं हो पाते। कुछ गलत संगत में पड़ जाते हैं। ऐसे युवाओं के लिए उन्होंने कुछ अलग करने की ठानी। शुरुआत वर्ष 2009 में पकड़ीदयाल मध्य विद्यालय से की। इसके बाद तो सिलसिला चल पड़ा।

 वे सप्ताह में एक या दो दिन युवाओं को कॅरियर के बारे में जानकारी देते हैं। इसमें करीब सौ से अधिक छात्र-छात्राएं हिस्सा लेते हैं। इसके लिए खुले मैदान का चयन किया जाता है। उनके मार्गदर्शन में बहुत से छात्र-छात्राओं ने बैंक व रेलवे सहित अन्य क्षेत्र में सफलता हासिल की है। जरूरतमंद युवाओं को प्रतियोगी परीक्षा की किताबें व अन्य सामग्री भी देते हैं। इसके लिए अपनी जेब से महीने में दो से तीन हजार रुपये खर्च करते हैं। 

वे कई देशों में भी जा चुके हैं। इसी साल श्रीलंका और पिछले साल भूटान के अलावा मलेशिया, मालदीव, मंगोलिया, नेपाल व बांग्लादेश में मोटिवेशनल स्पीच दे चुके हैं। मुन्ना कहते हैं कि समय पर युवाओं को बेहतर राह दिखाने से वे जीवन में बेहतर करते हैं। गांव के युवा गलत संगत से बचें, इसके लिए हमेशा प्रयास करते हैं। 

पढ़ाई के साथ सही मागर्दशन जरूरी

उनके सहयोग से सुरेश कुमार हाल ही में बीपीएससी में सफल हुए हैं। वह कहते हैं, पढ़ाई में बहुत बेहतर नहीं था। मुन्ना कुमार के मार्गदर्शन में तैयारी शुरू की। एक साल की मेहनत के बाद सफल हुआ। इसी प्रकार अभिलाषा भारती उनकी प्रेरणा से सामाजिक कार्यों में पहचान बना चुकी हैं। पप्पू कुमार समाजसेवा के क्षेत्र में बेहतर काम कर रहे। मो. दानिश, पवन कुमार, संदीप कुमार जायसवाल, अभिषेक कुमार, रानी कुमारी और अखिलेश कुमार उनकी मदद से एयरफोर्स में सेवा दे रहे। सुरेंद्र कुमार रेलवे व रामप्रवेश कुमार एमबीबीएस कर एमएस कर रहे हैं। इन युवाओं का कहना है कि पढ़ाई के साथ सही मागर्दशन जरूरी होता है। 

लक्ष्मीनारायण दुबे कॉलेज के प्राचार्य डॉ. अरुण कुमार का कहना है कि मुन्ना का प्रयास सराहनीय है। इससे युवाओं को दिशा मिल रही।

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप