मुजफ्फरपुर, जेएनएन। Former Mayor Samir Kumar Murder Case: सुशांत सिंह राजपूत मामले की तरह पूर्व मेयर समीर कुमार हत्याकांड की सीबीआइ जांच की मांग उठी है। यह मांग समीर कुमार की पत्नी वर्षा रानी ने की है। इस संबंध में उन्होंने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। उसने समीर कुमार व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के 25 वर्षो के संबंध व हत्या के बाद झेल रही पीड़ा से भी उन्हें अवगत कराया है।

 उन्होंने पत्र में कहा है कि हत्याकांड में जो तथ्य उजागर हुए उसके आधार पर कई बिन्दुओं पर जांच नहीं हो रही है। पुलिस के आरोप पत्र में शूटरों की पहचान का दावा तो किया गया लेकिन मास्टरमाइंड की पहचान बाकी है। अखाड़ाघाट होटल से घटनास्थल तक अलग-अलग गाडिय़ों से पीछा करने वाले अपराधी कौन थे। घटनास्थल पर पहले से खड़ी कार में कौन-कौन लोग मौजूद थे।  

 हत्या व्यवसायिक साझीदारी में करोड़ों की बेइमानी के लिए की गई या राजनीतिक कारणों से। इन सभी बिन्दुओं पर सीबीआइ कारगर जांच कर ठोस साक्ष्य पेश कर सकती है। 

यह है मामला

23 सितंबर साल 2018 की शाम नगर थाना क्षेत्र के चंदवारा नबाव रोड में पूर्व मेयर समीर कुमार व उनके कार चालक रोहित कुमार को एके-47 से भून दिया गया। इस मामले में नगर थाना के तत्कालीन थानाध्यक्ष सुजाउद्दीन के बयान पर अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कराई गई थी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021