मुजफ्फरपुर : एसकेएमसीएच में इमरजेंसी में कुव्यस्था हावी है। बुधवार को बुखार से पीड़ित बच्चे को लेकर गायघाट के सुरेंद्र पहुंचे। आटो से बच्चे को उतारने के बाद सीधे इमरजेंसी ले गए। वहां बच्चे की केयर नहीं की गई। इस पर वह गोद में बच्चे को उठाकर अस्पताल की व्यवस्था को कोसते हुए निकल गए।

सुरेंद्र ने बताया कि उसका बेटा अमित कुमार चमकी बुखार से पीडि़त हुआ। वहां से इलाज कराने के बाद सीधे यहां पर आए, लेकिन यहां न ट्राली मिली और न कोई बीमार बच्चे को देखने वाला ही था। मजबूर होकर दूसरी जगह पर ले जा रहे हैं। प्रबंधक संजय कुमार साह ने बताया कि उनके पास किसी मरीज की शिकायत नहीं आई है। इमरजेंसी में चिकित्सक व दवा की सुविधा 24 घंटे उपलब्ध रहती है। वह अपने स्तर से छानबीन करेंगे।

एसकेएमसीएच के आउटडोर में इलाज नहीं होने पर हंगामा

एसकेएमसीएच के आउटडोर में मरीजों ने इलाज नहीं करने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। इससे आधे घंटे तक इलाज बाधित रहा। सुरक्षा प्रहरी के हस्तक्षेप से सबकुछ सामान्य हुआ। इलाज कराने आए कुढ़नी के सरोज ने बताया कि सुबह आठ से दोपहर 12 बजे तक इलाज नहीं होना बताया गया। उसने कहा कि आउटडोर की सीसी कैमरे से निगरानी होनी चाहिए।

पूर्वी चंपारण अकौना के नवीन कुमार ने बताया कि उनको आउटडोर में नहीं देखा गया। वहां तैनात चिकित्सक ने उनके साथ उपेक्षा की। सही तरीके से व्यवहार नहीं किया। इसको लेकर पुलिस चौकी में लिखित शिकायत की है। अस्पताल प्रबंधक संजय कुमार साह ने बताया कि पुलिस की ओर से किसी मरीज की ओर से लिखित शिकायत नहीं मिली है। उनको इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है। जब कार्यालय में शिकायत आएगी तो जांच होगी। इन दिनों ओपीडी में मरीजों की संख्या बढ़ी है, लेकिन जो मरीज आ रहे उनका इलाज होता है। वह अपने स्तर से खुद मरीजों से बातचीत करते रहते हैं।

Edited By: Jagran