शिवहर, जासं। जिले में इस साल बादलों की बौछार जारी हैं। इस साल इलाके में जमकर बादल बरसे। हालत यह कि, जिले में बारिश का रिकार्ड टूट गया। अब जबकि, बारिश का दौर थमा है सैकड़ों गांव अब भी जलजमाव से घिरे है। वहीं सैकड़ों एकड़ खेत पानी की गिरफ्त में है। किसान परेशान और लाचार है। बारिश की वजह से 50 से अधिक सड़कें ध्वस्त हो चुकी है। वजह जिले में पिछले साल की अपेक्षा चार गुना अधिक बारिश रिकार्ड की गई। 

जिला सांख्यिकी पदाधिकारी द्वारा जारी प्रतिवेदन के अनुसार इस साल पहली जनवरी से अबतक जिले में 1304.40 मिमी सामान्य बारिश के सापेक्ष 1107.06 मिमी औसत बारिश हुई है। जबकि, पिछले साल 133.71 मिमी बारिश हुई थी। साल 2018 में 44.04 मिमी और साल 2019 में 20.79 मिमी कम बारिश हुई थी। इस साल जनवरी से 13 सितंबर तक जिले में कुल 5535.32 मिमी बारिश हुई है। इसका औसत 1107.06 मिमी रहा। यह आंकड़ा पिछले साल की अपेक्षा 393.56 फीसद अधिक हैं। पिछले साल जिले में कुल 1604.52 मिमी बारिश हुई। इसका औसत 133.71 मिमी रहा। पिछले साल भी जिले में औसत से 23 फीसद अधिक बारिश हुई थी। साल 2018 में 729.88 मिमी बारिश हुई थी। इसका औसतन 60.82 मिमी और साल 2019 में 1033.24 मिमी बारिश हुई। इसका औसत 86.10 मिमी रहा। बताते चलें कि, जिले के सभी 53 पंचायतों में वर्षामापी यंत्र लगाया गया है। इसके माध्यम से रोजाना बारिश रिकार्ड किया जाता है। वहीं जिला सांख्यिकी विभाग रोजाना बारिश का रिकार्ड जारी करता है। 

Edited By: Ajit Kumar