सीतामढ़ी, जासं।  मुंबई से प्रवासियों को लेकर आ रही कर्मभूमि एक्सप्रेस ट्रेन सोमवार सुबह दुर्घटनाग्रस्त होते-होते बची। बैरगनिया में उससे एक ट्रैक्टर ट्रॉली टकरा गई। हालांकि, ट्रेन को कुछ नहीं हुआ, ट्रॉली ही क्षतिग्रस्त होकर रह गई। इस प्रकार बड़ा हादसा टल गया। बैरगनिया रेलवे स्टेशन से पूरब रेलवे गुमटी के समीप हादसे की सूचना के बाद हड़कंप मच गया। बैरगनिया में आधा घंटा यह ट्रेन रुकी रही।

जानकारी के अनुसार, 02546 कर्मभूमि एक्सप्रेस ट्रेन मुंबई से चलकर सीतामढ़ी होते हुए रक्सौल जा रही थी। सुबह 7.30 बजे बैरगनिया स्टेशन पर पहुंचने वाली थी। उससे पहले पूर्वी रेल फाटक-78 के पास स्थानीय एक व्यक्ति के घर के पास लगा ट्रैक्टर ट्रेलर ट्रेन की रफ्तार की धमक से लुढ़ककर ट्रेन के इंजन जा टकराई। जोर के धमाके के साथ ट्रेलर दो भागों में अलग-अलग हो गई। लेकिन, इससे ट्रेन सहित आसपास के लोगों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा। चूंकि ट्रेन के चालक ने अपनी सूझबूझ का परिचय देते हुए इमरजेंसी ब्रेक को लगाकर ट्रेन को किसी तरह रोक लिया था। ट्रेन आधा घंटे तक रुकी रहने के बाद स्टेशन के लिए रवाना हो गई। घटनास्थल पर अफरा-तफरी का माहौल कायम हो गया था। सैकड़ों की भीड़ जुट गई थी। सभी ने कहा कि एक बड़ा हादसा होते-होते टल गया है। स्टेशन मास्टर ने घटना की जानकारी समस्तीपुर कंट्रोल व आरपीएफ सीतामढ़ी को दी है। रेल सुरक्षा बल इस सिलसिले में अग्रेतर कार्रवाई में जुटा है।

रेललाइन किनारे कब्जा कर बसने वालों के चलते खतरा

बैरगनिया रेलवे स्टेशन अधीक्षक रामनाथ ठाकुर ने बताया कि गुमटी के पास ट्रेन और ट्रेक्टर ट्रॉली की भिड़ंत में दुर्घटना बहुत भयावह होती। अगर ड्राइवर अपनी सूझबूझ का परिचय देते हुए इमरजेंसी ब्रेक नहीं लगता। दुर्घटना के बाद जब हम लोग मौके पर पहुंचे तब पता चला की तीन नंबर रेलवे लाइन से सटे पगडंडी को लोग रास्ता बना बैठे हैं। रेललाइन किनारे बसने वाले लोग रेलवे की जमीन पर अपना ट्रेक्टर या अन्य सामान लगाकर रखते हैं। इसके लिए उन लोगों को ताकीद की जा चुकी है। कर्मभूमि एक्सप्रेस प्राय: दो नंबर रेललाइन से स्टेशन पहुंचाती थी। लेकिन, आज यह ट्रेन तीन नंबर लाइन से स्टेशन पहुंच रहीं थी। इसी दरम्यान बगल में बसा राजकुमार साह नामक व्यक्ति अपने ट्रैक्टर को घुमाकर निकाला। ट्रेक्टर का इंजन तो निकल चुका था परंतु ट्रॉली निकलते-निकलते ट्रेन के इंजन से जा टकराया।

Edited By: Dharmendra Kumar Singh