समस्तीपुर, जेएनएन। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए देश भर में लॉकडाउन किया गया है। लोगों से घर में ही रहने की अपील की गई है। इस स्थिति में डाक विभाग ने घर-घर तक राशन व दवाएं पहुंचाने की तैयारी में है। इसके लिए डाक विभाग के सचिव ने सभी विभागों के सचिव को पत्र लिखकर यह सेवा देने की इच्छा जताई है। डाक विभाग के सचिव प्रदीप कुमार विसोई ने बिहार सहित देश के सभी विभाग के सचिव को पत्र लिखा है कि डाक विभाग का काफी बड़ा नेटवर्क है।

 डाक विभाग शहर से लेकर गांव तक चावल और आटा से लेकर आवश्यक सामग्रियां घर तक पहुंचाने के लिए विभाग तैयार है। विभागीय अधिकारियों के अनुसार समस्तीपुर में प्रधान व मुख्य डाकघर समेत कुल 394 डाकघर हैं। पदाधिकारी सहित 750 कर्मी हैं। सचिव ने समस्तीपुर सहित सभी डाकघरों के अधिकारियों को सेवा के लिए तैयार रहने का निर्देश दिया है। प्रशासन की हरी झंडी मिलते ही होम डिलीवरी शुरू कर दी जाएगी।

डाक विभाग के कर्मी ग्राहकों को घर जाकर करेंगे भुगतान

कोरोना वायरस से बचाव को लेकर पूरे देश में लॉकडाउन कर दिया गया है। ऐसी स्थिति में ग्राहकों को उनके घर पर सहयोग देने के लिए विभाग पूरी तरह से तैयार है। डाक अधीक्षक ने बताया कि लॉकडाउन होने के बाद सरकार द्वारा डाक सेवाओं को अनिवार्य सेवा में शामिल किया गया है। डाकघर में काउंटर पर ग्राहकों जमा रुपये का भुगतान किया जा रहा है। इसके साथ ही इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के माध्यम से ग्राहकों को उनके घर पर जाकर रुपये भुगतान करने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक से जुड़े ग्राहक घर बैठे रुपये की निकासी कर सकते हैं। इसके लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है। ग्राहक घर बैठे ही सेवा का लाभ उठा सकते है।

  इस बारे में समस्तीपुर के डाक अधीक्षक आरबी पासवान ने बताया कि डाक विभाग किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है। डाक कर्मी इस संकट में देश के साथ खड़े है। सचिव के निर्देशानुसार तैयारी में जुट गए हैं। प्रशासन की हरी झंडी मिलने पर होम डिलीवरी शुरू की जाएगी। खाताधारियों को डाकघर से निकासी की विशेष सुविधा दी जा रही है। इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक से जुड़े ग्राहक घर बैठे ही रुपये निकासी कर सकते है।

Posted By: Murari Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस