मुजफ्फरपुर : बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के पीजी के तीन महत्वपूर्ण विभागों में अध्यक्ष की कुर्सी एक वर्ष से अधिक से खाली है। इस कारण कक्षाओं के संचालन के साथ ही विभागीय कार्य भी प्रभावित हो रहे हैं। भौतिकी और इलेक्ट्रानिक्स के अध्यक्ष का प्रभार साइंस संकाय के डीन डा.मनेंद्र कुमार और गणित विभाग के अध्यक्ष का प्रभार सीसीडीसी डा.अमिता शर्मा के पास है। पीजी चौथे सेमेस्टर की मुख्य परीक्षा इसी महीने शुरू हो रही है। वहीं 10 फरवरी से संबंधित पीजी विभागों में प्रायोगिक परीक्षाएं आयोजित की जानी हैं। ऐसे में नियमित अध्यक्ष के नहीं होने के कारण विद्यार्थियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

वरीयता के कारण फंसा है मामला :

भौतिकी विभाग में वरीयता के कारण मामला फंसा हुआ है। एक साथ तीन प्राध्यापक अध्यक्ष की कुर्सी के लिए स्वयं को दावेदार बता रहे हैं। ऐसे में सभी का पेपर विवि की ओर से मंगवाकर जांच की गई। इसके बाद कुलपति के निर्देश पर एक कमेटी का गठन किया गया। कमेटी ने उनके कागजातों और योगदान की तिथि को देखा। कानूनी सलाह भी ली गई, लेकिन कमेटी ने छह महीने बाद भी रिपोर्ट नहीं सौंपी। कुलपति प्रो.हनुमान प्रसाद पांडेय ने बताया कि कानूनी सलाह ले ली गई है। सोमवार को वरीयता कमेटी की बैठक प्रस्तावित है। इसमें यदि कमेटी रिपोर्ट प्रस्तुत कर देती है तो उसे देखने के बाद शीघ्र अध्यक्ष की नियुक्ति कर दी जाएगी। अगले महीने में जूलाजी विभाग के अध्यक्ष सह साइंस संकायाध्यक्ष डा.मनेंद्र कुमार सेवानिवृत्त हो जाएंगे। ऐसे में जूलाजी के अध्यक्ष की भी नियुक्ति की जानी है।

Edited By: Jagran