मुजफ्फरपुर, जेएनएन। तापमान में लगातार आ रही गिरावट के कारण सर्दी-खांसी व सांस संबंधी मरीजों की संख्या बढऩे लगी है। एसकेएमसीएच में मंगलवार को नए व पुराने समेत करीब 3000 से अधिक मरीज ओपीडी में पहुंचे। इसमें 265 बच्चों का शिशु विभाग में इलाज किया गया। सर्वाधिक मरीज सांस संबंधी परेशानी के साथ सर्दी, खांसी, बुखार, बदन व पेट दर्द, डायरिया से पीडि़त थे। गंभीर रूप से बीमार 61 मरीजों को भर्ती किया गया। वहीं सदर अस्पताल में करीब 1200 मरीज पहुंचे।

 एसकेएमसीएच औषधि विभाग के डॉ. एएन सिंह, डॉ. सतीश कुमार सिंह व शिशु विभाग के डॉ. विजय कुमार के अनुसार मौसम में बदलाव के कारण सांस की समस्या हो रही है। ठंड पडऩे लगी है ऐसे इससे बचने के लिए गर्म कपड़े पहनें। साथ ही बाजार में बिकनेवाले खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें। साफ-सफाई पर विशेष ध्यान रखें। वरीय फिजीशियन डॉ.एके दास ने कहा कि अभी कुलर या पंखा से परहेज करें तथा फ्रीज की पानी पीने से बचें। मास्क का उपयोग करे। सांस संबंधी बीमारी वाले मरीज को इस मौसम में ज्यादा सजग रहने की जरूरत है।

मौसम में तेजी से बदलाव, पछुआ हवा बढ़ाएगी सर्दी

अगले चार दिनों तक उत्तर बिहार में आसमान में बादल छाए रहेंगे, लेकिन मौसम शुष्क रहेगा। इस दौरान पछुआ हवा चलने से सर्दी बढ़ेगी। इस दौरान अधिकतम तापमान 29 डिग्री तथा न्यूनतम तापमान 18 से 20 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है। साथ ही पांच किमी प्रति घंटे की गति से अगले 2 दिन तक पछुआ हवा तथा उसके बाद पुरवा हवा चलने की संभावना है। सुबह में अधिकतम नमी 90 फीसद तथा दोपहर में 70 फीसद तक रहने का अनुमान है। मंगलवार को तापमान सामान्य से चार डिग्री कम रहा। दोपहर बाद सर्दी बढऩे लगी।

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस