मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

समस्तीपुर,[पूर्णेन्दु कुमार]। हाथ से निर्मित सूप, दउरी व डगरा जल्द ही बीते दिनों की बात होगी। डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय, पूसा ने बाहर से मंगाई मशीन को अपग्रेड किया है। इसकी मदद से बांस के कई उत्पाद आसानी से बनाए जा सकेंगे। विवि हाथ से काम करने वाले लोगों में मशीन के प्रति जागरूकता फैला रहा। प्रशिक्षण भी दिया जा रहा, ताकि अधिक से अधिक लोग इसका लाभ उठा सकें।बांस काटने से लेकर उसे अलग-अलग आकार में करने में काफी श्रम एवं समय लगता है। इस समस्या को देखते हुए कृषि विश्वविद्यालय की पहल पर कृषि अभियंत्रण महाविद्यालय एवं वानिकी विभाग ने ऐसी मशीन पर छह महीने पहले काम शुरू किया।

 यहां के अभियंता मुकेश कुमार ने बताया कि कई जगह से जानकारी जुटाने के बाद पता चला कि नागपुर में इस तरह की मशीन है। वहां से सात लाख में छोटी-बड़ी सात मशीनें मंगाई गईं। इसमें बैंबू आउटसाइड नॉट रीमूविंग और कटाई मशीन सहित अन्य शामिल हैं। यहां की जरूरत के हिसाब में इन मशीनों में कई तरह के बदलाव किए गए। इससे अब कुछ ही समय में बांस की चिराई कर कमची बनाई जा सकती है। इसके अलावा पान व अगरबत्ती के लिए सीक सहित 30 प्रकार के उत्पाद बनाए जा सकते। इससे कारीगर सूप, टोकरी व डगरा सहित बांस के विभिन्न उत्पाद आसानी से बना सकते हैं। प्रशिक्षण लेकर छोटा व्यवसाय कर सकते हैं। इसके लिए विश्वविद्यालय ने दो से सात दिनों तक प्रशिक्षण देने की योजना बनाई है। साथ ही बांस की विभिन्न प्रजातियों को चिन्हित किया जा रहा है। क्योंकि, कुछ विशेष प्रजातियां विभिन्न उत्पादों के लिए बेहतर होती हैं।

मुफ्त में बांस का प्रसंस्करण

अभियंता मुकेश कुमार कहते हैं कि बिहार में बांस की पैदावार काफी है। इसके उत्पादों की मांग भी अधिक है। खासकर छठ सहित अन्य पर्वों में। लेकिन, इसके प्रसंस्करण की सुविधा नहीं रहने से इससे जुड़े कारीगरों को परेशानी होती है। विश्वविद्यालय ने इस कार्य को काफी आसान कर दिया है। इसमें व्यवसाय की भी अपार संभावनाएं हैं। अभी मुफ्त में बांस का प्रसंस्करण कर कारीगरों को दिया जाएगा। बांस प्रसंस्करण के लिए अन्य 30 तरह की मशीनों को मंगाने और यहां हिसाब से बनाने को लेकर काम चल रहा।

डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय, पूसा के कुलपति डॉ. आरसी श्रीवास्तव ने कहा कि इन मशीनों से बांस के प्रसंस्करण के बाद बनने वाला उत्पाद पहले से बेहतर होगा। इससे शिल्पकारों को काफी मदद मिलेगी। उनकी आमदनी में वृद्धि होगी। इसका प्रशिक्षण लेने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा।

 

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप