मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

मधुबनी, जेएनएन। जिले के पंडौल थाना क्षेत्र अंतर्गत सरिसव पाही में दैनिक जागरण से जुड़े पत्रकार प्रदीप मंडल पर जानलेवा हमले के दोनों नामजद आरोपितों सरिसव पाही निवासी अशोक कामत व सुशील साह के विरुद्ध पुलिस ने न्यायालय से इश्तेहार एवं कुर्की वारंट निर्गत करा लिया है। पुलिस ने उक्त दोनों आरोपितों के घर गुरुवार को इश्तेहार लगा भी दिया।

पंडौल थानाध्यक्ष अनोज कुमार ने बताया कि पत्रकार पर गोली चलाकर जानलेवा हमला करने के दोनों नामजद आरोपित अशोक कामत एवं सुशील साह के विरूद्ध न्यायालय से इश्तेहार एवं कुर्की वारंट मिल गया है। दोनों नामजद आरोपितों की गिरफ्तारी नहीं होने या फिर उसके द्वारा पुलिस के समक्ष अथवा न्यायालय में आत्मसमर्पण नहीं करने पर अब कभी भी उनके घरों की कुर्की की जा सकती है।

उल्लेखनीय है कि उक्त पत्रकार पर जानलेवा हमले को पुलिस प्रशासन ने चुनौती के रूप में ले रखा है। सदर एएसपी कामिनी बाला के नेतृत्व में पुलिस टीम आरोपितों के घर पहुंचकर चल-अचल संपत्ति का जानकारी जुटाने की कार्रवाई कर चुकी है, ताकि आरोपितों की गिरफ्तारी या आत्मसमर्पण नहीं करने की स्थिति में चल-अचल संपत्ति अटैच कर शीघ्र कुर्की की जा सके। पुलिस अधीक्षक डॉ. सत्य प्रकाश एवं सदर एएसपी कामिनी बाला ने बताया कि आरोपित अशेाक कामत एवं सुशील साह के शीघ्र गिरफ्तार या आत्मसमर्पण नहीं करने की स्थिति में इन दोनों अभियुक्तों को छुपाने, बचाने एवं संरक्षण देने के आरोप में इन दोनों के माता-पिता एवं संरक्षण देने, छुपाने एवं बचाने में संलिप्त अंन्य लोगों को भी इस मुकदमा में अभियुक्त बनाते हुए गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।

उल्लेखनीय है कि बीते 28 जुलाई की रात प्रदीप मंडल पर बाइक सवार दो अपराधियों ने सरिसव पाही में उस वक्त गोली चलाकर जानलेवा हमला कर दिया, जब वे अपने घर हाटी वापस लौट रहे थे। एसपी ने उनके घर पर परिजनों की सुरक्षा हेतु सिपाही को प्रतिनियुक्त कर दिया है। एसपी डा. सत्य प्रकाश ने आरोपियों को पूर्व के मुकदमों में न्यायालय से मिली जमानत को रद कराने के लिए भी कार्रवाई की जाएगी। स्पीडी ट्रायल चलाकर सजा भी दिलाई जाएगी। 

डीएमसीएच में भर्ती पत्रकार की सेहत में सुधार 
जख्मी पत्रकार प्रदीप मंडल फिलहाल दरभंगा मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल (डीएमसीएच) के सर्जिकल आइसीयू वार्ड में भर्ती हैं, जहां उनकी सेहत में सुधार हो रहा है। जख्मी पत्रकार का घटना के रात ही तकरीबन चार घंटो तक ऑपरेशन किया गया था, लेकिन पेट के अंदर से गोली नहीं निकाली जा सकी। हालांकि चिकित्सकों का कहना है कि पेट के अंदर गोली रहने से फिलहाल कोई खतरा नहीं है। इसे बाद में भी निकाला जा सकता है। जख्मी पत्रकार के पिता ललन मंडल ने बताया कि चिकित्सक ने कहा है कि शुक्रवार दो अगस्त को प्रदीप मंडल का फिर से एक्स-रे कराया जाएगा। अगर एक्स-रे रिपोर्ट में पेट का अंदरूनी भाग पूरी तरह ठीक पाया गया तो आगामी रविवार को स्टीच काटा जाएगा। बहरहाल प्रदीप मंडल की सेहत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप