मुजफ्फरपुर, जेएनएन। आयुष्मान भारत योजना के गोल्डन कार्डधारियों के मुफ्त इलाज के लिए 11 नए अस्पताल का चयन किया गया है। सहमति मिलते ही जिले में गोल्डन कार्ड से इलाज करने वाले अस्पतालों की संख्या बढ़कर 39 हो जाएगी। शहर के सबसे बड़े निजी क्षेत्र से आने वाले केजरीवाल अस्पताल को सूचीबद्ध करने की कार्रवाई चल रही है।  

अभियान को मिल रही गति 

- जिले में  पांच लाख 19 हजार 629 परिवारों का योजना से चयन

- चयनित परिवार के करीब 28 लाख 85 हजार आठ व्यक्ति को मुफ्त इलाज की मिलेगी सुविधा

- चयनित परिवार में से अब तक करीब एक लाख 24 हजार के पास पहुंच चुके हैं गोल्डन कार्ड

किस प्रखंड में कितने चिह्नित 

प्रखंड-        लाभांवित परिवार

औराई------43843

बंदरा------21809

बोचहां------31953

गायघाट----36449

कांटी----20402

कटरा----38644

कुढऩ़ी---46868

मड़वन---17606

मीनापुर----45183

मोतीपुर---37305

मुरौल----13390

मुशहरी----30536

पारू----29909

साहेबगंज---18522

सकरा-----37060

सरैया-----27564

नगर निगम, मुजफ्फरपुर---14382

कांटी नगर परिषद----3126

मोतीपुर नगर परिषद---2349

साहेबगंज नगर परिषद---2729

गोल्डेन कार्ड बनाने को जरूरी 

- राशन कार्ड के साथ आधार कार्ड या कोई अन्य पहचान पत्र, फोटो

- सदर अस्पताल सहित सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर मुफ्त में नियमित बन रहा है गोल्डेन कार्ड 

   - सरकारी अस्पताल में मुफ्त तथा बसुधा केंद्र में बनवाने पर 30 रुपये देना होगा सेवा शुल्क 

- कार्ड मिलने के साथ ही सरकार से लेकर पैनल में शामिल अस्पताल में इलाज की सुविधा

इन अस्पतालों में चल रहा इलाज 

प्रशांत मेमोरियल चैरिटेबल हॉस्पिटल, इंद्रा सेवा सदन, अशोका हॉस्पिटल, संजीवनी क्लीनिक व नर्सिंग होम, मिश्रा मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल प्राइवेट लिमिटेड, ए वन जीवनदायनी हॉस्पिटल, एजीएस हॉस्पिटल प्राइवेट लिमिटेड, श्री सिद्धि विनायक हॉस्पिटल, बथुआ नर्सिंग होम प्राइवेट लिमिटेड, आयुष्मान हॉस्पिटल एंड आर्शीवाद फेरटलिटी सेंटर पैनल में शामिल हैं। वहीं 11 नए अस्पताल की अनुशंसा राज्य मुख्यालय गई है।  इसमें मां जानकी हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर बैरिया, उषा हॉस्पिटल जूरन छपरा,  आदत्या हॉस्पिटल, मॉ सुभ्रदा स्मृति नर्सिंग होम, इंद्रप्रस्थ हॉस्पिटल एंड ट्रॉमा सेंटर, न्यू लालवती हॉस्पिटल, गलैक्सी हॉस्पिटल, मीनाक्षी हॉस्पिटल, मुजफ्फरपुर ग्लोबल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर, मुजफ्फरपुर हार्ट हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर, नयन दीप हॉस्पिटल शामिल हैं। 

 इस बारे में सिविल सर्जन डॉ. एसपी सिंह ने कहा कि नवचयनित 11 अस्पताल की सूची राज्य स्वास्थ्य समिति को भेजी गई है। वहां से सहमति मिलने के बाद जल्द ही वहां भी मुफ्त इलाज होगा। इसके साथ 39 सरकारी व गैर सरकारी अस्पताल इलाज पैनल में हो जाएंगे। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस