मुजफ्फरपुर : जिले में जल- जीवन- हरियाली अभियान की डीएम प्रणव कुमार ने विभागवार समीक्षा की। उन्होंने अपूर्ण योजनाओं का क्रियान्वयन गुणवत्ता के साथ समय से करने का निर्देश दिया। उन्होंने नई योजनाएं लेकर समय से उसका क्रियान्वयन करने को कहा। जीविका एवं मनरेगा के सहयोग से सात प्रखंडों में नर्सरी विकसित करने की दिशा में कार्य करने का निर्देश दिया। प्रति पंचायत चापाकल के किनारे 10-10 सोख्ता निर्माण की योजना लेते हुए इस माह के अंत तक पूर्ण करने को कहा। निर्देश दिया कि कुओं के जीर्णाद्धार के साथ -साथ सोख्ता निर्माण का कार्य भी अनिवार्य रूप से कराएं। जल संरक्षण से संबंधित नई योजना के तहत प्रत्येक प्रखंड में दो-दो तालाब विकसित किया जाए। जो योजनाएं पूर्ण हुई हैं और जिनका जियो टैगिग किया जा चुका है उनपर मापी पुस्तिका राशि दर्ज करवाएं।

लघु जल संसाधन को निर्देश दिया गया कि चेक डैम से संबंधित योजना लें। जल निस्सरण विभाग के अधिकारी को कुढ़नी में जल जमाव की समस्या के निदान के लिए ठोस कार्रवाई करने को कहा। तय समय में कार्य पूरा नहीं करते हैं तो उनपर कार्रवाई की जाएगी। इसके अतिरिक्त पौधशाला एवं सघन पौधरोपण, वैकल्पिक फसलों की सिचाई, जैविक खेती, सार्वजनिक संरचनाओं को अतिक्रमण मुक्त करना, नए जल स्त्रोतों का निर्माण, भवनों में वर्षा जल संचयन आदि की भी समीक्षा की गई। बैठक में डीडीसी आशुतोष द्विवेदी, सहायक समाहर्ता श्रेष्ठ अनुपम, जिला पंचायत राज अधिकारी सुषमा कुमारी, डीआरडीए निदेशक चंदन चौहान, प्रभारी पदाधिकारी राजस्व सारंग पाणि पांडे, डीपीआरओ कमल सिंह समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद थे। सभी प्रखंडों के पीओ, मनरेगा वीसी से जुड़े थे।

Edited By: Jagran