मुजफ्फरपुर, जेएनएन। माता-पिता की प्रताडऩा से तंग आकर एक किशोरी ने खुदकशी करने का फैसला कर‍ लिया। मिठनपुरा इलाके की यह किशोरी अखाड़ाघाट पहुंच गई थी। वहां उसके हावभाव संदिग्ध दिखने पर इलाके के लोगों ने पूछताछ शुरू कर दी। जिसमें उसने अपनी परेशानियों की जानकारी दी। इसके बाद लोगों ने उसे समझाया और खुदकशी से बचा लिया।

सूचना मिलने के बाद सिकंदरपुर ओपी प्रभारी ओमप्रकाश महिला पुलिसकर्मी के साथ मौके पर पहुंचे और उसे अभिरक्षा में लिया। किशोरी ने कहा कि उसके माता-पिता हमेशा उसके साथ अमानवीय व्यवहार करते हैं। उसकी पढ़ाई बंद करवा दी गई है। घर में कैद कर मारपीट व प्रताडि़त किया जाता है। इस रवैये के कारण किशोरी पहले भी पांच बार घर से भाग चुकी है।

कहा कि स्थानीय लोगों के सामने उसके माता-पिता दोबारा इस तरह की हरकत नहीं करने की बात कह घर ले जाते हैं। वहां पहुंचने के कुछ ही दिन बाद फिर से प्रताडि़त किया जाता है। फिलहाल किशोरी को महिला पुलिसकर्मी की अभिरक्षा में रखा गया है। परिजनों से संपर्क करने की कवायद की जा रही है। पुलिस का कहना है कि अगर किशोरी परिजन के पास जाना चाहेगी तभी उसे भेजा जाएगा, अन्यथा उसे संस्था में रखा जाएगा।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस