समस्तीपुर , जासं । Samastipur  के एक गांव से ढाई साल पहले अपहरण की गई एक लड़की अब अचानक सामने आ गई है। वो भी एक बच्‍ची के साथ। बिहार पुलिस उसको गली-गली ढूंढ रही थी वह प्रेमी की गली में मिली है। पुलिस का कहना है कि 2018 में अपने घर से लापता हुई थी। इस लड़की को उसके प्रेमी के घर से बरामद किया गया है। इस अपहरण में ना रंगदारी मांगी गई ना फिरौती मांगी गई। युवती का 2018 में अपहरण हुआ और 2021 में बच्ची के साथ बरामद की है। यह रियल कहानी है लेकिन अंदाज बिल्कुल फिल्मी है। इस मामले को जानकर सब हैरान है कि आखिर यह कैसे हुआ। जिस लड़की का अपहरण का मामला दर्ज था वह लड़की अपने प्रेमी के साथ शादी की रस्मों में बंध चुकी थी और एक बच्ची को जन्म दी है। लेकिन घर वालों को इसकी जानकारी तक नहीं यह मामला समझ से परे है।

पुलिस उस युवती को 2 वर्ष 6 माह से ढूंढने में लगी थी युवती के घर वाले पुलिस से लगातार मिल रहे थे कि आखिर हमारी बेटी कहां है किस हाल में है कुछ पता नहीं। लेकिन वह लड़की ऐश-ओ-आराम के साथ अपने प्रेमी के घर जिंदगी गुजार रही थी उसने एक स्वस्थ बच्ची जन्म भी दी। यह जानकारी जब पुलिस को मिली तो वह भी भौचक रह गई। पुलिस का कहना है कि वह अपने स्वेच्छा से प्रेमी से शादी कर ली है। हालांकि इसकी जानकारी घरवालों को दे दी गई है। अब जैसा होगा वह कानूनी प्रक्रिया के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

 बताते चलें कि वारिसनगर थाना क्षेत्र के एक गांव से ढाई वर्ष पूर्व कथित अपहृता युवती को पुलिस ने खानपुर थाना के डेकारी गांव से बरामद किया। इस संबंध में थानाध्यक्ष प्रसुंजय कुमार ने बताया कि 22 अक्टूबर 2018 को एक मामला दर्ज कराते हुए पीडि़त ने अपने पुत्री का अपहरण कर लेने की बात कही थी। अनुसंधानक एएसआई जनार्दन पासवान ने बताया कि खबर मिली थी कि कथित अपहृत युवती उक्त थाने के डेकारी गांव में अपने डेढ़ वर्ष की पुत्री के साथ ससुराल में रहती है। जिसे बरामद कर 164 का बयान दर्ज कराने के लिए न्यायालय में प्रस्तुत किया गया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप