मुजफ्फरपुर, जेएनएन।  BRA Bihar University के 55 अंगीभूत और संबद्ध कॉलेजों में नामांकन के समय विद्यार्थियों से स्पोर्टस के नाम पर हो रही वसूली के मामले की जांच शुरू हो गई है। इसको लेकर डीएसडब्ल्यू डॉ.अभय कुमार सिंह की अध्यक्षता में बैठक बुलाई गई। इसमें कहा गया कि सभी संबंधित कॉलेज के प्राचार्यों को तीन दिनों के भीतर यह जवाब देना है कि कॉलेज में नामांकन के समय विद्यार्थियों से स्पोर्ट्स शुल्क लिया जाता है। लेकिन न तो कॉलेज में स्पोर्ट्स मीट का आयोजन होता है और न खेल की गतिविधियां होती हैं। ऐसे में इन पैसों को कहां खर्च किया जाता है।

तीन सदस्यीय कमेटी का किया था गठन

कॉलेजों में स्पोर्टस शुल्क के नाम पर की जा रही वसूली की शिकायत मिलने के बाद कुलपति ने तीन सदस्यीय जांच कमेटी का गठन किया था। इसमें डीएसडब्ल्यू, कुलानुशासक व विवि के गणित विभागाध्यक्ष को शामिल किया गया था। कमेटी को 15 दिनों के भीतर कॉलेजों में अबतक स्पोर्टस शुल्क के रूप में कितनी राशि वसूली गई। साथ ही उसका खर्च कहां किया गया। अगर खर्च नहीं किया गया तो इसके लिए जिम्मेवार कौन है समेत अन्य मामलों पर जवाब तलब करना है।

जवाब नहीं देने वाले का रुकेगा वेतन

डीएसडब्ल्यू ने कहा कि कॉलेजों को रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है। साथ ही जवाब नहीं देने वाले कॉलेज के प्राचार्य ओर वर्सर का वेतन बंद किया जाएगा। कुलानुशासक डॉ.राकेश कुमार ने बताया कि विवि के स्पोर्टस सेक्रेटरी को भी कॉलेजों से रिपोर्ट मांगने को कहा गया है। अनियमितता उजागर होने पर दोषियों के खिलाफ कुलपति को प्रतिवेदन दिया जाएगा। साथ ही उनपर कार्रवाई भी की जाएगी।

एक छात्र से लिए जाते अस्सी रुपये

नामांकन के समय एक छात्र से स्पोर्टस के नाम पर अस्सी रुपये लिए जाते हैं। इसमें से 52 रुपये कॉलेज का और शेष राशि विवि का होता है। कॉलेजों ने विवि को कई वर्षों से इसका ब्योरा उपलब्ध नहीं कराया है। 

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस