दरभंगा, जेएनएन। एनआरसी और सीएए का विरोध कर रहे लोगों ने जमालपुर थाना क्षेत्र के झगरुआ गांव में शुक्रवार को लखनऊ से सामाजिक सर्वे करने आई 17 सदस्यीय टीम को बंधक बना लिया। लोगों को आशंका थी कि टीम एनआरसी का सर्वे करने आई है। टीम में चार महिलाएं भी शामिल थीं। हालांकि, घटना की सूचना के बाद बिरौल एसडीपीओ दिलीप कुमार झा जमालपुर थाना प्रभारी के साथ वहां पहुंचे। उन्होंने जांच-पड़ताल कर सर्वे टीम के सदस्यों को भीड़ से मुक्त कराया। सर्वे टीम के सदस्यों ने बताया कि वे लखनऊ की मोर्सेल कंपनी के लिए सर्वे करते हैं।

 अमेरिका की येल यूनिवर्सिटी के लिए शोध कर रहे एक प्रोफेसर के असाइनमेंट पर सामाजिक सर्वे करने झगरुआ गांव पहुंचे थे। लेकिन, पहले से सशंकित लोगों ने उन्हें एनआरसी-सीएए का सर्वेयर समझ कर बंधक बना लिया।

गौरतलब है कि गत 17 जनवरी को लहेरियासराय थाना क्षेत्र के उर्दू मोहल्ला में भी कुछ इस तरह की घटना हुई थी। सामाजिक सर्वेक्षण करने आई टीम को लोगों ने काफी देर तक बंधक बनाए रखा। बाद में पुलिस ने मुक्त कराया था।

एसएसपी बाबूराम ने रविवार को बताया कि ग्रामीणों ने गलत मंशा से सर्वे करने की आशंका में टीम के सदस्यों को बंधक बना लिया था। पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंच कर उनके कागजात की जांच की और पूछताछ के बाद सही पाया। पुलिस ने मध्यस्थता कर सर्वे टीम को ग्रामीणों से मुक्त कराया।

 

Edited By: Ajit Kumar