मुजफ्फरपुर, जासं। शहरी क्षेत्र में नल-जल का काम कर रहे संवेदकों ने एक पखवारे के अंदर अपना काम पूरा नहीं किया तो उनको ब्लैकलिस्ट किया जाएगा। नगर आयुक्त विवेक रंजन मैत्रेय ने यह चेतावनी दी है। मुख्यमंत्री सात निश्चय से हर घर नल-जल योजना के तहत शहर के सभी वार्डों में 44 करोड़ की लागत से पाइपलाइन विस्तार एवं मिनी पंप लगाने का काम चल रहा है। सभी वार्डों में कार्य पूर्ण करने की अवधि समाप्त हो चुकी है। इसके बावजूद अब तक किसी भी वार्ड में संवेदक कार्य को पूरा नहीं कर पाए हैं । नगर आयुक्त ने निगम के सभी कनीय अभियंताओं को पत्र लिखकर अपने-अपने अधीन वार्डों में कार्य को पूरा कराने का निर्देश दिया है । कहा है कि शहरी क्षेत्र में होल्डिंग स्वामियों से पानी का शुल्क लिया जा रहा है । ऐसी स्थिति में प्रत्येक होल्डिंग में पेयजल सुविधा दिया जाना अति आवश्यक है। सभी संवेदक अपने-अपने वार्ड में 15 दिनों के अंदर काम को पूरा कर लें अन्यथा उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जो संवेदक तय समय में काम को पूरा नहीं करेंगे उनके एकरारनामा को रद कर दिया जाएगा और नाम काली सूची में डाल दी जाएगी। अभी मुजफ्फरपुर शहर के वार्डों में पाइप लाइन का चल रहा काम।   

पार्षदों ने जताई थी नाराजगी

सोमवार को नगर भवन में हुई नगर निगम बोर्ड की बैठक में पार्षदों ने अपने-अपने वार्ड में नल-जल का कार्य पूरा नहीं करने की शिकायत की थी । वार्ड पार्षद रंजू सिन्हा, अभिमन्यु कुमार, सुनीता भारती, नंद कुमार प्रसाद साह, केपी पप्पू समेत एक दर्जन से अधिक पार्षदों ने काम पूरा नहीं होने पर नाराजगी जताई थी । उनका कहना था कि लोगों के घरों तक पानी नहीं पहुंच रहा, लेकिन निगम उनसे पानी का शुल्क लेने की बात कर रहा है । इससे उन्हें लोगों की नाराजगी झेलनी पड़ेगी ।

जल संवाद कार्यक्रम में पानी की बर्बादी पर च‍िंता

मुजफ्फरपुर। सरला श्रीवास सामाजिक सांस्कृतिक शोध संस्थान द्वारा मंगलवार को रोहुआ स्थित किलकारी बाल केंद्र में जल संवाद का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता किलकारी बाल केंद्र की समन्वयक आरती कुमारी की। कार्यक्रम में शामिल वक्ताओं ने भूजल के दोहन एवं पानी की बर्बादी पर ङ्क्षचता जताई। साथ ही लोगों को जल संरक्षण के लिए आगे आने को कहा। अध्यक्षता आरती कुमारी ने की। उन्होंने कहा कि अगर समय रहते हम नहीं चेते तो आने वाली पीढ़ी को जल मिलेगा ही नहीं। अजय कुमार ठाकुर ने कहा कि जल के बिना जीवन की कल्पना भी मुश्किल है। ऐसे में जल-संकट का समाधान इसका संरक्षण है। संस्था की संयोजक सुनील ने बताया कि हम धीरे-धीरे पेयजल संकट की ओर बढ़ रहे हैं इसलिए हमें पानी की बर्बादी रोकने की चेष्टा करनी चाहिए। कार्यक्रम में खुशी, आस्था, शिवानी, कोमल, प्रियांशी, ऋतु, श्वेता, मुस्कान, रूबी, मीनाक्षी, संगीता, तन्नु, मानसी, छोटी, सपना, अमन, साहिल, सौरभ, विशाल, रोहन, सचिन, ऋषभ पंथ, सुधांशु, ओम प्रकाश, अनुराग, अभिषेक, करण, संजीत, शामिल हुए। धन्यवाद ज्ञापन लोक गायिका अनीता कुमारी ने की।

Edited By: Dharmendra Kumar Singh