मुजफ्फरपुर, हसं : तिरहुत नहर का पुनस्र्थापन कार्य कर रहे नागार्जुना कंस्ट्रक्शन कंपनी से खरौना गांव के लोग खासे नाराज थे। ग्रामीणों का कहना था कि कंपनी द्वारा किया जा रहा कार्य असंतोषप्रद है। तटबंध में रिसाव होता रहा और कंपनी चुपचाप रही। पेश है कुछ ग्रामीणों की राय

1. रंजीत चौधरी : ग्रामीण रंजीत चौधरी कहते हैं कि विभागीय अधिकारी व कंपनी के कर्मचारियों की घोर लापरवाही यह स्थिति आई है। तटबंध टूटे और ग्रामीण बर्बाद हो जाएं, यही कंपनी की मंशा थी।

2. रविनंदन कुमार : तटबंध काटे जाने से खासे नाराज ग्रामीण रविनंदन कुमार कहते हैं कि इसे जानबूझ कर काटा गया है। कैनाल में पानी भरा था। ऐसे में तटबंध काटे जाने से फसलों को भारी नुकसान हुआ है।

3. भैरव चन्द्र पाठक : ग्रामीण भैरव चन्द्र पाठक कहते हैं कि कैनाल का पानी ओवर फ्लो होकर गांव की ओर आ रहा था। किसी अधिकारी ने इसकी सुध नहीं ली।

4. सत्येन्द्र चौधरी : ग्रामीण सत्येन्द्र चौधरी कहते हैं कि पानी गांव की ओर बढ़ रहा था। स्थिति ऐसी थी कि बायां तटबंध किसी भी समय टूट सकता था। गांव को बचाने के लिए कुछ लोगों ने यह कदम उठाया।

5. इंदू देवी : ग्रामीण इंदू देवी कहती है कि बायां तटबंध टूटने की आशंका से गांव में अफरातफरी मच गई थी। गांव को बचाने के लिए ग्रामीणों ने यह कदम उठाया है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस