मुजफ्फरपुर : जिला स्कूल में मंगलवार को नगर निगम क्षेत्र के लिए छठी से आठवीं कक्षा के लिए 14 सीटों पर शिक्षक नियोजन काउंसलिग की प्रक्रिया संपन्न हुई। इसमें अभ्यर्थियों के नहीं आने से चार सीट खाली रह गई। कुछ अनाउमेंट नहीं सुनाई देने पर पिछड़ गए। इसकी शिकायत मजिस्ट्रेट के रूप में तैनात डीपीओ सर्वशिक्षा अभियान अमरेंद्र पांडेय से किया गया। लेकिन उन्होंने इसकी लिखित शिकायत देने को कहा। उन्होंने कहा कि जो पहले आया उनका सलेक्शन हुआ। जो पिछड़ गए उनके लिए अब कोई जगह नहीं है। कुछ अभ्यर्थियों ने काउंसलिग हाल में मौजूद शिक्षा अधिकारी पर मनमानी का आरोप लगाया। समस्तीपुर के रहने वाले विनय चौधरी ने बताया कि पांच बजे तक शिक्षक नियोजन काउंसलिग की प्रक्रिया चलनी है, लेकिन एक अधिकारी ने साढ़े बारह बजे ही समाप्त होने की बात कहकर लौटा दिया। इसको लेकर अभ्यर्थियों में भारी आक्रोश देखा गया। बता दें कि, उर्दू के दो और अंग्रेजी व संस्कृत के एक-एक सीटों के लिए अभ्यर्थी नहीं आए। उर्दू में 1 सीट पर ईबीसी कैटेगरी और 1 सीट पर एससी कैटेगरी के अभ्यर्थी नहीं मिले। वहीं संस्कृत में 1 सीट पर ईबीसी और अंग्रेजी में 1 सीट पर एससी कैटेगरी के अभ्यर्थी नहीं मिलने से सीटें खाली रह गईं। वर्ग एक से पांच कक्षा के लिए शिक्षकों का चयन आज

नगर निगम व तीन नगर परिषदों में वर्ग एक से पांच कक्षा के रिक्त पदों के लिए बुधवार को चार केंद्रों पर काउंसलिग की प्रक्रिया होगी। बुधवार को नगर निगम के साथ ही नगर परिषद कांटी, मोतीपुर और साहेबगंज में भी 1 -5 वीं कक्षा के लिए काउंसलिग होगी। इसके लिए कुल रिक्त सीटें 139 हैं।

डीपीओ स्थापना जमालुद्दीन ने बताया कि नगर निगम क्षेत्र में सामान्य वर्ग के लिए 23 और उर्दू के लिए 11 सीट कुल 34 सीट, नगर परिषद कांटी के लिए 29 सामान्य और उर्दू 10, कुल 39 सीट, मोतीपुर नगर परिषद क्षेत्र के लिए 22 सामान्य तथा 7 उर्दू सीट कुल 29 है। वहीं साहेबगंज नगर परिषद क्षेत्र में 24 सामान्य एवं 13 सीट उर्दू की है कुल 37 सीट पर शिक्षक नियोजन काउंसलिग की प्रक्रिया होगी।

Edited By: Jagran