मुजफ्फरपुर। पारू प्रखंड के गावों में बाया नदी के पानी ने तबाही मचा रखी है। बाजीतपुर और मगुरहिया पंचायत के करीब छह सौ घरों में बाढ़ का पानी घुस गया है। इससे पीड़ित परिवारों की परेशानियां बढ़ गई हैं। इसके साथ ही सभी सड़कों पर पानी पहुंच जाने से आवागमन में भी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

सामाजिक कार्यकर्ता चंदेशवर राम ने बताया कि बाजीतपुर पंचायत के बतरौलिया मुशहर टोला के करीब 200, बाजीतपुर पाल टोला में 40 अल्पसंख्यक और अनुसूचित टोला के 25, पटेल व पासवान टोला के 30, वार्ड-13 में 25, डेलुआ नोनिया टोली और अनुसूचित टोला में 50 घरों में पानी घुस गया है। उधर मगुरहिया पंचायत के हीरापुर गाव के 400 में करीब साढे तीन सौ घरों में पानी घुस जाने से लोगों के सामने भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है। इसी तरह पीचपुरा गाव जलमग्न हो चुका है। मुख्य रोड से हीरापुर और पीचपुरा गाव तक जाने वाली पक्की रोड पर तीन फीट पानी चल रहा है। गाव का मुख्यालय व हाट बाजारो से संपर्क टूट गया है। हालात ऐसी हो गई है कि नाव की व्यवस्था नहीं होने से कोई अधिकारी भी बाढ़ पीड़ित गावों का निरीक्षण नहीं कर पा रहा है।

लगातार पानी बढ़ने से मगुरहिया चौक से डेलुआ होते हुए मुख्यालय जाने के रास्ते बंद हो चुके हैं। सामाजिक कार्यकर्ता प्रभू साह ने हीरापुर गाव के बाढ़ पीड़ित परिवारों के बीच चूरा, गुड़ व नमक का वितरण किया है। वहीं, सामाजिक कार्यकर्ता बालेश्वर सहनी ने प्रत्येक पीड़ित परिवारों के बीच पांच-पांच किलो आटा का वितरण किया है।

मुखिया विकास रंजन तिवारी ने बताया कि अंचल कार्यालय से दो सौ प्लास्टिक उपलब्ध कराए जाने का आश्वासन दिया गया है। इसके मिलते ही वितरण किया जाएगा। पूर्व मुखिया नरेश सहनी ने डीएम को पत्र भेज कर हीरापुर गाव के बाढ़ पीड़ित परिवारों के बीच सरकारी स्तर पर राहत उपलब्ध कराने की माग की है। सीओ अनिल भूषण ने बताया कि निरीक्षण कर पीड़ित परिवारों के लिए राहत कार्य चलाने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

Edited By: Jagran