मोतिहारी, जासं । पूर्वी चंपारण के राधानगर स्थित सीकारिया बीएड कॉलेज प्रांगण में एक अनोखा शिवलिंग बना है। 20 फीट ऊंचा गोल्ड प्लेटेड और पांच लाख रुद्राक्ष से निर्मित शिवलिंग, नंदी, कल्पवृक्ष का रुद्राभिषेक के बाद लोकार्पण क‍िया गया है। दावा है क‍ि बिहार का पहला इतना ऊंचा शिवलिंग है जो रुद्राक्ष से बना है। इसे बनाने में करीब पांच लाख पंचमुखी रुद्राक्ष का प्रयोग क‍िया गया है।

सनातन धर्म की रक्षा के लिए माला व भाला दोनों धारण करना जरूरी: स्वामी नरेंद्र सरस्वती

काशी सुमेश्वर से पधारे संत स्वामी नरेंद्र सरस्वती जी महारा ने कहा है कि जिस प्रकार भगवान शिव के एक हाथ में भाला और एक हाथ में माला हैं, उसी प्रकार हिंदू समाज को भी सनातन धर्म रक्षा के लिए इन दोनों को धारण करना चाहिए। वे शहर के राधानगर स्थित सीकारिया बीएड कॉलेज प्रांगण में बीस फीट ऊंचा गोल्ड प्लेटेड और पांच लाख रुद्राक्ष से निर्मित शिवलिंग, नंदी, कल्पवृक्ष का रुद्राभिषेक के बाद लोकार्पण के अवसर पर श्रद्धालुओं को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अगर हिंदू समाज नहीं जागा तो उनके पास न तो घर रहेगा और न ही मठ। आज देश के कई हिस्सों में उत्पात मचा हैं। सनातन धर्म सदा से शांति और सौहार्द का प्रतीक रहा है। हम किसी को क्षति नहीं पहुंचाते लेकिन आत्मरक्षार्थ और धर्म की रक्षा के लिए हमें सजग रहना होगा।

भगवान शिव रूद्र के अवतार 

स्वामी नरेंद्र सरस्वती ने कहा-भगवान जग्रन्नाथ की रथयात्रा में हिस्सा लेकर रथ खींचने वाले श्रद्धालु को मोक्ष की प्राप्ति होती है। उसी तरह भगवान शिव रूद्र के अवतार हैं और इनके पूजन से सभी तरह के व्याधि कष्ट का निवारण हो जाता है। इस मौके पर उन्होंने शिव की पूजन महिमा और रुद्राक्ष की महता पर चर्चा की। मौके पर यज्ञ के आयोजक समाजसेवी सह शिक्षाविद डॉ. शंभूनाथ सिकारिया, संस्था के सचिव शिक्षाविद उद्योगपति यमुना कुमार सीकारिया सहित शहर के कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।

Edited By: Dharmendra Kumar Singh