मुजफ्फरपुर। नगर थाना के सिकंदरपुर ओपी की पुलिस उत्पाती युवकों की दबंगई के सामने निरीह दिखी। ओपी के पीछे बांध व सामने अखाड़ाघाट मुख्य सड़क करीब दो घंटे तक रणक्षेत्र में तब्दील रही। पुलिस उपद्रवी युवकों के कारण ओपी के अंदर दुबकी रही और बांध व सड़क पर लाठी-डंडे व तलवार चलते रहे। दहशत फैलाने के लिए फायरिग भी हुई। नगर थाना पुलिस को सूचना दी गई तो वहां से बस इतना जबाव मिला कि आपसी विवाद है। घटनास्थल पर अधिकारी को भेजा गया है। मामला शांत है।

हमले से बांध रोड में बची चीख-पुकार : रविवार की दोपहर लगभग डेढ़ बजे लाठी-डंडा व तलवार से लैस दो सौ से अधिक युवकों ने सिकंदरपुर ओपी से सटे पीछे बांध के किनारे झुग्गी-झोपड़ी वालों पर हमला कर दिया। जो जहां मिला उसकी पिटाई की। अचानक हुए इस हमले से बांध रोड में लोगों की चीख दिल को दहलाने लगी। लेकिन, गरीबों की चीख -पुकार को सुनने वाला कोई नहीं था। केरोसिन छिड़ककर आग लगाने की धमकी पर घर से भागे हमलावर :

बांध किनारे फूस के घर में रह रही महिला ने बताया कि किससे व क्यों झगड़ा हुआ इसकी कोई जानकारी नहीं है। अचानक लाठी-डंडा लिए एक दर्जन युवक उसकी फूस के घर के अंदर घुस आया और घर में तोड़फोड़ करने लगा। घर के अंदर मौजूद छोटे-छोटे बच्चों की पिटाई करने लगा। जब वह बचाने के लिए चिल्लाई तो आसपास के लोग पहुंचे। उत्पात मचा रहे युवकों को बाहर निकालने का स्थानीय लोगों ने भरसक प्रयास किया। जब वे नहीं निकले तो घर के अंदर पानी भरे गैलन को केरोसिन बताकर उसे छिड़क कर आग लगाने की चेतावनी दी गई। स्थानीय एक व्यक्ति तो झांसा देने के लिए जैसे ही गैलन उठाया तब सभी युवक वहां से भाग खड़े हुए। यह है मामला

कार्तिक पूर्णिमा के दिन आयोजित मेले में मोहल्ले के ही जंगली सहनी के पुत्र राजा सहनी और पूर्व पार्षद सीमा व छेदी गुप्ता के पुत्र चिंटू गुप्ता के बीच विवाद हुआ था। दोनों ने एक दूसरे को देख लेने की धमकी दी थी। इस बीच रविवार को दोनों पक्ष आमने -सामने हुए। लोगों ने मामले को संभालने की कोशिश की। लेकिन, उपद्रवी तत्वों ने जमकर उत्पात मचाया। पूर्व वार्ड पार्षद सीमा गुप्ता ने बताया कि मेरे पुत्र पर लगातार हमले किए गए हैं। हमने शांति बनाने की कोशिश की। लेकिन, उपद्रवी तत्वों की भीड़ नहीं रुकी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप