मुजफ्फरपुर : जिले में कोरोना मरीजों के इलाज की सुविधा में वृद्धि हुई है। सिकंदरपुर स्टेडियम स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के कैंपस में बुधवार को कोविड ओपीडी का शुभारंभ डीएम प्रणव कुमार ने किया। यहां कोरोना संक्रमित मरीजों का प्रारंभिक इलाज शुरू हो गया है। सिविल सर्जन डॉ. एसके चौधरी ने बताया कि वैसे मरीज जो पॉजिटिव हैं वे बिना समय गवाएं ओपीडी आकर इलाज शुरू करा सकते है। यहां प्रारंभिक इलाज शुरू होगा। साथ ही काउंसिलिग के साथ महत्वपूर्ण परामर्श भी दिए जाएंगे। ऑन द स्पॉट मेडिकल किट भी मरीजों को उपलब्ध कराई जाएगी।

इसके अलावा वैसे व्यक्ति जिनमें कोविड के लक्षण दिखाई देते हैं वे भी यहां आ सकते हैं। उनकी जांच की भी व्यवस्था की गई है। उनका सैंपल लिया जाएगा। टेस्ट भी किया जाएगा। यदि वे पॉजिटिव पाए जाते हैं तो उनका प्रारंभिक इलाज शुरू कर दिया जाएगा। उन्हें भर्ती करने की आवश्यकता है तो तत्काल इसी जगह डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर में भर्ती कर इलाज किया जाएगा। सीएस ने बताया कि किसी व्यक्ति में बुखार तथा अन्य लक्षण दिखाई देते हैं तो घबराए नहीं। वे शीघ्र जांच कराएं। पॉजिटिव पाए भी जाते हैं तो घबराएं नहीं। बिना समय गवाएं उक्त ओपीडी आकर इलाज कराएं। कोविड ओपीडी में रोस्टर वाइज चिकित्सकों एवं पारामेडिकल स्टाफ की प्रतिनियुक्ति भी कर दी गई है। इस दौरान वरीय पदाधिकारी एवं चिकित्सक भी मौजूद थे।

डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर भी शुरू

अल्पसंख्यक छात्रावास को डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर बनाया गया है। यहां भी रोस्टर वाइज चिकित्सकों की और पारा मेडिकल स्टाफ की प्रतिनियुक्ति कर दी गई है। यहां 100 बेड का डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर बनाया गया है। ऑक्सीजन की भी पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। डीएम प्रणव कुमार ने कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग समन्वय के साथ कार्य कर रहा है। प्रचार-प्रसार और जागरूकता अभियान के साथ कोविड मरीजों का इलाज सरकारी और निजी अस्पतालों में किया जा रहा है। निजी नर्सिंग होम पर सतत निगरानी भी रखी जा रही है। डीएम ने कहा कि जिले में ऑक्सीजन की खपत बढ़ी है। इसके बावजूद ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता है। ऑक्सीजन के उत्पादन एवं वितरण पर भी नजर रखी जा रही है। मजिस्ट्रेटों को भी आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। कोविड ओपीडी एवं डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर कोरोना मरीजो के इलाज में महत्वपूर्ण होगा।