मुजफ्फरपुर, जेएनएन। पर्व पर घर आने वाले प्रवासियों की कोरोना जांच होगी। अगर वह पॉजिटिव पाए गए तो उनको होम क्वारंटाइन पर रखा जाएगा। अगर किसी प्रवासी के घर पर सुविधा नहीं होगी तो स्वास्थ्य विभाग की ओर से संचालित क्वारंटाइन सेंटर पर रखा जाएगा। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने सभी जिलों के सिविल सर्जन को निर्देश दिए हैं। उन्होंने त्योहारों के समय कोरोना की रफ्तार कम करने के लिए विशेष रणनीति तैयार करने के लिए कहा है। एसीएमओ डॉ. विनय शर्मा ने बताया कि स्थानीय स्तर पर आशा प्रवासियों की जांच करेंगी। इसमें किसी भी तरह से लापरवाही नहीं रहे। इसके लिए सख्ती जारी है। इस दौरान उत्तर बिहार के जिलों में लौटने वाले प्रवासियों पर स्वास्थ्य विभाग की विशेष नजर रहेगी। अधिक से अधिक संदिग्धों की जांच एंटीजन किट से कराई जाएगी। 

कोराना का कहर, ऑक्सीजन की मांग में इजाफा

कोरोना के कहर के बीच मास्क, सैनिटाइजर के साथ ऑक्सीजन की बिक्री अचानक बढ़ गई है। इससे कई निजी अस्पतालों ने अपना खुद का प्लांट लगा लिया है। वहीं दूसरी ओर से घर-घर सिलेंडर पहुंचाने का कारोबार भी बढ़ा है। सदर अस्पताल के लेखापाल विपिन पाठक ने बताया कि जिला स्वास्थ्य समिति की निगरानी में दो कोविड केयर सेंटर चल रहे हैं। वहां पर दो सौ बेड हैं। इसलिए वहां दो सौ ऑक्सीजन के सिलेंडर रिजर्व रहते हैं। जनवरी से पहले इतनी जरूरत नहीं थी। अभी पांच से दस सिलेंडर की रोज खपत है। प्रसाद हॉस्पिटल के प्रबंधक अमर कुमार ने बताया कि उनके यहां जनवरी से पहले 20 से 25 सिलेंडर की खपत थी। इधर जबसे उनके यहां कोरोना का इलाज शुरू हुआ है अपना खुद का प्लांट लगाया है। अस्पताल के बायोमेडिकल इंजीनियर आदित्य विक्रम ने बताया कि पहले से ज्यादा मांग है। अब लोग घर पर भी सिलेंडर मंगाकर रख रहे हैं। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस