मुजफ्फरपुर, जेएनएन। प्‍याज के फेर मेें अब केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान फंस गए हैं। प्‍याज की बढ़ती महंगाई को लेकर मुजफ्फरपुर के सीजेएम कोर्ट में परिवाद दायर किया गया है। प्‍याज के बढ़ते दाम पर नियंत्रण नहीं करने को लेकर यह परिवाद दायर किया गया है। इसकी सुनवाई 12 दिसंबर को होगी। 

बता दें कि प्‍याज के बढ़ते मूल्‍य ने पूरे देश को रूला दिया है। इसका दाम घटने का नाम ही नहीं ले रहा है। इसे लेकर देश की तरह बिहार में भी सियासत तेज है। विपक्ष लगातार सत्‍ता पक्ष पर हमलावर बना हुआ है, जबकि जाप पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष व पूर्व सांसद पप्‍पू यादव तो पटना में बाजाप्‍ता ठेला लगाकर प्‍याज भी बेच रहे हैं। साथ ही, वे एनडीए सरकार पर अपनी भड़ास भी निकाल रहे हैं।    

इधर, शनिवार को मुजफ्फरपुर के सीजेएम कोर्ट में प्‍याज के दाम पर नियंत्रण नहीं होने को लेकर केंद्रीय खाद्य उपभोक्‍ता मंत्री रामविलास पासवान के खिलाफ परिवाद किया है। मिठनपुरा इलाके में रहनेवाले राजू नैय्यर ने यह परिवाद दायर किया है। परिवाद में कहा गया है कि 6 दिसंबर को टीवी चैनलों पर केंद्रीय खाद्य आपूर्ति मंत्री रामविलास पासवान का बयान प्रसारित किया जा रहा था। इसमें प्याज को लेकर उनके द्वारा दिया जाने वाला बयान जनता को गुमराह करने वाला था। जनता को गुमराह कर प्याज की कालाबाजारी कराई जा रही है। यह आम लोगों के साथ धोखाधड़ी है। इस परिवाद पर सुनवाई 12 दिसंबर को होगी।

गौरतलब है कि प्‍याज को लेकर बिहार में सियासत पहले से ही तेज है। जाप नेता पप्‍पू यादव ठेला लगाकर पटना में प्‍याज बेच रहे हैं। पिछले सप्‍ताह उन्‍होंने भाजपा ऑफिस के सामने ठेला लगाकर 35 रुपये किलो प्‍याज बेचा। इसके बाद उन्‍होंने उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी के आवास के सामने प्‍याज बेचा। इस बार उन्‍होंने प्‍याज की कीमत पांच रुपये कम कर दी। इतना ही नहीं, लोजपा कार्यालय के आगे भी उनहोंने 30 रुपये प्रति किलो की दर से प्‍याज बेचा।

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस