मुजफ्फरपुर, जेएनएन। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा के खिलाफ दाखिल परिवाद की जांच मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी (सीजेएम) एसके तिवारी करेंगे। सोमवार को परिवाद की सुनवाई के बाद इसकी जांच कर समन जारी करने को लेकर मामले को निजी संचिका में रखा है। अधिवक्ता सुधीर कुमार ओझा ने 16 अगस्त को यह परिवाद दाखिल किया था। इसमें पहलू खां हत्याकांड में आरोपितों की रिहाई को लेकर उनके आपत्तिजनक बयान को आधार बनाया था।

यह लगाया आरोप

परिवाद में अधिवक्ता ओझा ने कहा है कि उन्मादी ङ्क्षहसा के शिकार पहलू खां हत्याकांड की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अलवर कोर्ट में चल रही थी। 14 अगस्त को अलवर की निचली अदालत ने संदेह का लाभ देते हुए आरोपितों को बरी कर दिया। इसको लेकर प्रियंका वाड्रा ने आपत्तिजनक बयान दिया था। यह बयान कई समाचार चैनलों पर प्रसारित किया गया। इसमें धार्मिक उन्माद फैलाने की बात कही गई। आरोप लगाया गया है कि उनका यह बयान कोर्ट की अवमानना भी है।  

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस