बाबूबरही ( मधुबनी), संस। सीबीआइ की टीम ने सर्रा और मदना गांव में छापेमारी की। प्रखंड के सर्रा गांव में मनोज झा के घर का ताला तोड़कर टीम ने छापेमारी की। यहां से कई महत्वपूर्ण सामग्री और कागजात मिलने की सूचना है। टीम का नेतृत्व सीबीआइ इंस्पेक्टर ज्योति प्रभाकर कर रहे थे। ग्रामीणों के अनुसार, पीएनबी की शिकायत पर धोखाधड़ी का मामला सीबीआइ ने दर्ज किया था। दिल्ली की एक कंपनी आम्रपाली बायोटेक ने पीएनबी से बक्सर जिले के नावनगर और नालंदा जिले के राजगीर में फूड प्रोसेङ्क्षसग यूनिट लगाने के नाम पर 47 करोड 97 लाख रुपये का ऋण लिया था। मगर न तो फूड प्रोसेङ्क्षसग यूनिट लगी और न बैंक को ऋण वापस किया गया। ऋणधारकों ने राशि को निजी उपयोग में लगा लिया। शुरू में सूद अदा किया गया। ऋण वापस नहीं होने पर बैंक ने केस दर्ज कराया। इसमें मनोज झा समेत पांच को नामजद किया गया। मनोज झा की गिरफ्तार हो चुकी है। उसकी निशानदेही पर सर्रा गांव स्थित उसके घर और अंधराठाढ़ी प्रखंड के मदना गांव में देवलाल यादव के घर शुक्रवार की शाम छापेमारी की गई। सूत्रों की मानें तो मनोज झा पर धोखाधड़ी सहित कई अन्य मामले पहले से दर्ज हैं। 

घटिया पाइप लाइन बिछाने पर प्रदर्शन

मोतीपुर, संस : बरजी पंचायत अंतर्गत महवल वार्ड नंबर तीन में सड़क निर्माण व नल का जल योजना में घटिया पाइपलाइन बिछाने पर ग्रामीणों ने प्रखंड कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया। बीडीओ प्रशांत कुमार, प्रमुख पति गौरीशंकर प्रसाद, जीपीएस राजीव रंजन सिंह ने ग्रामीणों को जांच कराने का भरोसा दिया। इस पर वे शांत हुए।

सुरेंद्र भगत, शंकर भगत, कृष्णा भगत, चंद्रिका ठाकुर, रंजन कुमार, पप्पू ठाकुर आदि ग्रामीणों का आरोप था कि प्राक्कलित राशि 19 लाख 98 हजार से वार्ड प्रबंधन क्रियांवयन समिति द्वारा मानक को ताख पर रखकर घटिया व लोकल पाइप लाइन का कार्य कराया जा रहा है। वहीं जब ब्रह्मï स्थान की भूमि पर आंगनबाड़ी केंद्र का निर्माण कार्य किया गया था तब वार्ड प्रबंधन समिति के अध्यक्ष सह वार्ड सदस्य और उनके लोगों ने विरोध कर कार्य को रुकवा दिया गया। बीडीओ ने बताया कि ग्रामीणों की मांग पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

Edited By: Ajit Kumar