मुजफ्फरपुर, जासं। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय में गुरुवार को पेंङ्क्षडग परिणाम में सुधार और प्रमोटेड विद्यार्थियों को पार्ट थ्री का परीक्षा फार्म भरने की अनुमति देने को लेकर हंगामा हुआ। विद्यार्थी सुबह 10 बजे से ही विवि परिसर में गोलबंद होने लगे थे। करीब 11 बजे प्रति कुलपति के विवि पहुंचते ही छात्र-छात्राओं ने कार्यालय में ही उन्हें घेर लिया। विद्यार्थियों का कहना था कि डेढ़ से दो वर्षों से पेंडिंग में सुधार के लिए चक्कर काट रहे हैं, लेकिन अबतक समस्या जस की तस बनी हुई है। ऐसे में उन्हें फार्म भरने का विकल्प ही नहीं मिल रहा है। कहा कि विवि के पदाधिकारी छात्रों के करियर से खिलवाड़ कर रहे हैं। किसी को उनके भविष्य की ङ्क्षचता नहीं है। इसपर प्रति कुलपति प्रो.रवींद्र कुमार ने कहा कि जिन विद्यार्थियों का परिणाम पेंङ्क्षडग है उन्हें अंडरटे साथ फार्म भरने का मौका मिलेगा। शुक्रवार से पोर्टल पर यह सुविधा मिलेगी। इसके बाद सैकड़ों की संख्या में पहुंचे विद्यार्थियों ने कहा कि उनका परिणाम प्रमोटेड दिखा रहा है। कापी के लिए छह महीने पहले आरटीआइ किया, लेकिन अबतक कापी नहीं मिली। इसके लिए कई छात्रों ने 300 रुपये भुगतान भी कर दिया है। इन विद्यार्थियों को एक पेपर में शून्य से पांच अंक तक दिए गए हंै। यहां से निकलने के बाद नारेबाजी करते हुए विद्यार्थी परीक्षा नियंत्रक के कक्ष में गए। उन पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया। कहा कि इससे पूर्व भी अंडरटेङ्क्षकग लेकर प्रमोटेड वाले विद्यार्थियों का फार्म भरा जाता रहा है। इस बार फार्म भरने से रोका जा रहा है।

परीक्षा नियंत्रक डा.संजय कुमार ने कहा कि इसपर कुलपति से मार्गदर्शन मांगा गया है। अनुमति मिलने पर प्रमोटेड परिणाम वाले विद्यार्थी भी फार्म भर पाएंगे। छात्रों की ओर से दबाव बनाया जा रहा है, लेकिन अंडरटेङ्क्षकग लेकर फार्म भरे जाने की स्थिति में उनका प्रमाणपत्र मान्य नहीं होगा, क्योंकि पहले तृतीय वर्ष की परीक्षा होगी और इसके बाद द्वितीय वर्ष की। ऐसे में प्रमाणपत्र की मान्यता घेरे में आ जाएगी। विद्यार्थियों की ओर से लगातार कहे जाने पर इसपर कुलपति से बात की जाएगी।

2018-21 के तृतीय वर्ष की परीक्षा का फार्म भरने की तिथि बढ़ी स्नातक सत्र 2018-21 के तृतीय वर्ष का परीक्षा फार्म भरने की तिथि विस्तारित कर दी गई है। अब छात्र-छात्राएं 30 नवंबर तक परीक्षा फार्म भर पाएंगी। परीक्षा नियंत्रक ने बताया कि छात्रों की ओर से लगातार शिकायत मिल रही है कि उनका डाटा पोर्टल पर नहीं दिख रहा है। ऐसे में पांच दिनों तक तिथि विस्तारित की गई है। कई विद्यार्थियों का कहना है कि उनका डाटा पोर्टल पर गलत दिख रहा है। नाम व विषय बदल गया है। विवि की ओर से कहा गया कि कालेज से एडिट करवाना होगा। कालेज जाने पर कहा जा रहा है कि पोर्टल काम नहीं कर रहा। 

Edited By: Ajit Kumar