दरभंगा, जेएनएन। बिहार बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा 2020 में इस बार शामिल हुए अभ्यर्थियों के लिए एक बड़ी खबर है। इस परीक्षा की नोडल संस्था ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय ने 28 अक्टूबर को कॉलेज आवंटन की पहली सूची जारी कर दी है। इसको देखने के बाद कोई भी अभ्यर्थी यह पता कर सकता है क‍ि उसे कौन सा कॉलेज आवंटित हुआ है। यहां यह ध्यान देने वाली बात है क‍ि काॅलेज का आवंटन उन्हीं को किया जा रहा है जिन्होंने अपने च्वाइस दिए थे।

बीएड में नामांकन के लिए बुधवार को नोडल विवि ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय की ओर से छात्र-छात्राओं की च्वाइस के अनुसार कॉलेज एलॉट कर दिया गया। राज्य नोडल पदाधिकारी प्रो.अजीत कुमार ने बताया कि जिन छात्र-छात्राओं को कॉलेज एलॉट कर दिया गया है वे संबंधित विश्वविद्यालय के मुख्यालय में काउंटर पर प्रमाणपत्रों की जांच कराने के बाद प्रोविजनल नामांकन ले सकते हैं। इसके लिए उन्हें तीन हजार रुपये जमा करने होंगे। बताया कि छात्र-छात्राओं की ओर से जो च्वाइस दी गई थी उसी के अनुसार उन्हें कॉलेज आवंटित किया गया है। हालांकि कुछ कॉलेजों में सीट से कम छात्र-छात्राओं का आवंटन किया गया है। इसके पीछे कारण बताया गया है कि छात्र-छात्राओं ने कम कॉलेजों का विकल्प दिया था। अब ऑन स्पॉट नामांकन के दौरान विद्यार्थी इन कॉलेजों का विकल्प दे सकेंगे। 

चार वर्षीय इंटीग्रेटेड बीएड कोर्स में ऑन स्पॉट नहीं होगा नामांकन

चार वर्षीय इंटीग्रेटेड बीएड कोर्स में ऑन स्पॉट नामांकन नहीं होगा। कॉलेजों में रिक्त सीटों को भरने के लिए अब नोडल विवि ललित नारायण मिथिला विवि दरभंगा के मुख्यालय में ही काउंसिलिंग की जाएगी। बीआरए बिहार विवि के इस कोर्स के नोडल पदाधिकारी सह डीएसडब्ल्यू डॉ.अभय कुमार सिंह ने बताया कि विवि की ओर से सीटों को भरने के लिए ऑन स्पॉट नामांकन का प्रस्ताव दिया था। लेकिन, राज्य नोडल पदाधिकारी ने मिथिला विवि के पदाधिकारियों से वार्ता के बाद बताया कि इस कोर्स में ऑन स्पॉट नामांकन का प्रावधान नहीं है। काउंसिङ्क्षलग के माध्यम से ही नामांकन होगा। अबतक आरडीएस कॉलेज में दो राउंड में काउंसिलिंग हुई है। इसमें पांच दिनों में 1400 छात्र-छात्राओं को बुलाया गया था। लेकिन, अबतक 200 छात्र-छात्राओं ने ही अपना प्रोविजनल नामांकन कराया है। बीआरए बिहार विवि के ही चार कॉलेजों में इस कोर्स के संचालन की मान्यता मिली है। प्रत्येक कॉलेज में सौ सीट निर्धारित हैं। इसकी प्रवेश परीक्षा में 4000 से अधिक छात्र-छात्राएं सफल हुई थीं। आगे दो दिनों की काउंसिलिंग की जाएगी। इसमें सफल हुए छात्र-छात्राओं को काउंसिलिंग के लिए मिथिला विवि जाना होगा। हालांकि, काउंसिलिंग की तिथि निर्धारित नहीं की गई है। बता दें कि इस कोर्स की फी अधिक होने से काउंसिङ्क्षलग के लिए आए काफी छात्र-छात्राएं बिना नामांकन लिए ही वापस लौट गए। इस कोर्स के लिए 75 हजार रुपये प्रतिवर्ष के हिसाब से चार वर्षों के लिए तीन लाख रुपये फी तय की गई है। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस