बेतिया, जासं। विगत दिनों बेतिया राज के रेकॉर्ड रूम से महत्वपूर्ण कागजातों की चोरी मामले में मंगलवार की रात नगर पुलिस बेतिया राज के तीन कर्मियों से दोबारा घंटों पूछताछ की। लेकिन अभी तक इस मामले में कोई नतीजा नहीं निकल सका है। बेतिया राज से जुड़े लोगों के अनुसार मंगलवार की देर शाम राज के जिम्मेवार पदों पर कार्यरत दो कर्मी और एक सेवानिवृत्त कर्मी को पुलिस नगर थाना ले गई। इनमें से एक से पहले भी पूछताछ हो चुकी है। कर्मियों से पुलिस करीब 5 घंटे तक पूछताछ की। बाद में सभी को मुक्त कर दी। घटना के 5 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। हालांकि अभी भी पुलिस को चोरी की इस घटना में कर्मचारियों की मिलीभगत का संदेह बरकरार है। फिलहाल पुलिस इस मामले में खुलकर बोलने से कतरा रही है। विधि विज्ञान प्रयोगशाला की टीम द्वारा एकत्रित फिगरप्रिट के नतीजे पर भी पुलिस की आंखें टिकी हुई है। जबकि बेतिया राज के कुछ कर्मचारियों का कहना है कि चोरी की घटना की जानकारी होने के बाद राज के कुछ कर्मचारी रेकॉर्ड रूम में गए थे। वे वहां रखे कुछ कागजातों को भी अपने हाथों से छुए थे। अब उन्हें घटनास्थल से उठाए गए फिगरप्रिट में उनके हाथ के उंगलियों के निशान भी आने का डर सता रहा है। दौड़ते हुए आए रेकॉर्ड रूम प्रभारी और कहा कि चोरी हो गए कागजात बेतिया राज के एक कर्मचारी ने बताया कि शनिवार को चाबी लेकर रेकॉर्ड रूम के प्रभारी ने रेकार्ड रूम को खोला। कुछ ही देर के बाद वे दौड़ते हुए आए और कहा कागजातों की चोरी हो गई है। चोरी की बात सुनकर आनन-फानन में कई कर्मचारी रेकॉर्ड रूम में पहुंचे। कर्मचारियों ने भिडीलेटर टूटा देखा। कर्मचारियों ने बताया कि इसके बाद इसकी सूचना राज मैनेजर को दी गई। कुछ ही देर के बाद रेकॉर्ड रूम प्रभारी चोरी गए कागजातों की लिस्ट बनवाई और प्राथमिकी के लिए नगर थाना भेजा।

पुलिस की नसीहत- लाकर रख दे कागजात

घटना के 5 दिन बीत जाने और राज के कर्मचारियों से घंटों पूछताछ करने के बाद भी नगर पुलिस जब किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी तो कर्मचारियों पर ही दबाव बनाना शुरू कर दिया। एक कर्मचारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि पुलिस उन पर दबाव बना रही है। नसीहत दे रही है की चोरी के कागजात लाकर चुपके से रख दे। कर्मचारी ने कहा कि जब वे चोरी ही नहीं किए है तो कागजात कहां से लाएं।

Edited By: Jagran