मुजफ्फरपुर, जेएनएन। जिले की दोनों लोकसभा सीटों की वोटों की गिनती के लिए लगभग एक हजार से अधिक कर्मचारी व पदाधिकारी लगाए जाएंगे। इसके लिए जिला निर्वाचन कार्यालय ने तैयारी तेज कर दी है। अहियापुर स्थित बाजार समिति में बने मतगणना हॉल में विधानसभावार टेबल का निर्माण कराया जा रहा है। वहीं इंटरनेट सुविधा भी बहाल की जा रही है। इसके अलावा शनिवार को मतगणना कार्य में लगाए जाने वाले माइक्रो ऑब्जर्वर, मतगणना सुपरवाइजर व सहायकों को प्रशिक्षण दिया गया।

  नोडल पदाधिकारी व डीसीएलआर पश्चिमी एसके अलबेला ने कहा कि अब सोमवार को यहीं प्रशिक्षण दिया जाएगा। आज प्रशिक्षण में अधिकतर कर्मचारी व पदाधिकारी उपस्थित रहे। जो नहीं भाग ले सके वे अगले सत्र में इसमें शामिल होंगे। आज 576 सुपरवाइजर व सहायक और 276 माइक्रो ऑब्जर्वरों को प्रशिक्षण दिया गया।

एआरओ के नाम भी तय

मुजफ्फरपुर व वैशाली लोकसभा संसदीय क्षेत्र की मतगणना के लिए सहायक निर्वाची पदाधिकारी भी नियुक्त कर दिए गए हैं। वहीं उनकी सहायता के लिए टीम भी तय कर दी गई है। इसके अलावा प्रत्येक विधानसभा के लिए 14-14 टेबल पर मतगणना कर्मी के रूप में माइक्रो ऑब्जर्वर, सुपरवाइजर व सहायकों के नाम तय कर दिए गए हैं। मगर, उन्हें किस विधानसभा के लिए मतगणना करना है यह रेंडमाइजेशन के आधार पर तय होगा। यह प्रक्रिया मतगणना से 48 घंटे पहले पूरी की जाएगी।

उम्मीदवार जान पाएंगे बूथवार कितने मिले वोट

मतगणना के दौरान ही उम्मीदवारों को पता चल जाएगा कि उन्हें किस बूथ पर कितने वोट मिले। विधानसभावार ईवीएम की गिनती से पहले उसकी संख्या से बूथ का भी मिलान किया जाएगा।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस