मुजफ्फरपुर, जेएनएन। मुशहरी प्रखंड के राजवाड़ा स्थित राजकीय अनुसूचित जाति आवासीय विद्यालय (आंबेडकर विद्यालय) में व्यवस्था के खिलाफ छात्राओं ने हंगामा किया। फिर अनशन पर बैठ गईं। इनका आरोप था कि एचएम सुमन कुमारी हमलोगों के साथ काफी बुरा बर्ताव करती हैं। बात बात पर जातिसूचक संबोधन से प्रताडि़त करती हैं। समय से छात्रवृत्ति की राशि नहीं देती हैं। इलाज व तेल साबुन मद की राशि में से पैसे काट लेती हैं। बीमार होने पर इलाज की कोई व्यवस्था नहीं की जाती।

 बिना जिला कल्याण अधिकारी से स्वीकृति लिए एचएम ने अपने ग्रामीण को गार्ड बनाया है। रात्रि में दोनों गार्ड नशा पीकर बुरी नजर से देखते हैं। हम सभी अपने को असुरक्षित महसूस करती हैं। छात्राओं के अभिभावकों ने प्रशासन से एचएम पर प्राथमिकी दर्ज करने व उनके तबादले की मांग की।

 इस बीच जिला कल्याण पदाधिकारी कमलेश कुमार सिंह, रंजीत कुमार जिला समन्वयक, बिहार दलित विकास मिशन, अनिल कुमार सिन्हा, अनुपम कुमारी, प्रखंड कल्याण अधिकारी के अलावा स्थानीय मुखिया पति शिवनाथ राय भी वहां पहुंचे। सभी ने बच्चियों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे नहीं मानीं।

 विधायक बेबी कुमारी वहां पहुंचीं। स्थिति को देख जिला कल्याण अधिकारी से कहा कि अविलंब एचएम व दोनों गार्ड को हटाएं और एचएम पर विधि सम्मत कार्रवाई करें। तब जिला कल्याण अधिकारी ने एचएम व गार्डों को तत्काल प्रभाव से हटाने की घोषणा की। इसके पूर्व कई बार बच्चियों ने जिला कल्याण अधिकारी को बंधक बना लिया। सूचना पर पहुंचे मुशहरी थाने के एसआइ रंजीत कुमार ने दलबल समेत पहुंच उन्हें मुक्त कराया। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021