पूसा (समस्तीपुर), जागरण संवाददाता। डॉ.राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा के मुख्य द्वार को नहीं खोले जाने पर गुरुवार से अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठने का निर्णय लिया है। बुधवार को पूसा-समस्तीपुर मुख्य पथ के जान घाट के समीप आइसा कार्यकर्ताओं ने सड़क जाम कर प्रदर्शन किया। इस दौरान घंटों आवागमन बाधित रहा। आइसा कार्यकर्ताओं ने सड़क पर प्रदर्शन के दौरान एक सभा भी की। सभा की अध्यक्षता आइसा प्रखंड अध्यक्ष रौशन कुमार ने की। संचालन भाकपा माले प्रखंड सचिव अमित कुमार ने किया। प्रखंड सचिव ने कहा कि विश्वविद्यालय के कुलपति भ्रष्टाचार का साम्राज्य बनाने में लगे हैं। अपने पूर्व के कार्यस्थल के पदाधिकारियों की यहां पर नियुक्ति कर रहे हैं।

 आइसा प्रखंड अध्यक्ष ने कहा कि विश्वविद्यालय में एक सौ से अधिक पदों पर स्किल सर्पोङ्क्षटग स्टाफ की नियुक्ति की गई। इसके लिए परीक्षा तो ली गई लेकिन परीक्षा के परिणाम में पारदर्शिता नहीं थी। परीक्षा के परिणाम में सफल या असफल उम्मीदवारों का अंक नहीं दिखाया गया। न ही कट अप जारी किया गया। कुलपति ने नियमों को ताक पर रखकर नियुक्ति की। प्रदर्शन के दौरान अंचलाधिकारी संतोष कुमार श्रीवास्तव ने पहुंचकर गेट खुलवाने को लेकर जिले के वरीय अधिकारियों से बात करने का आश्वासन दिया। जाम में विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों और कर्मियों की गाड़ी भी फंसी रही। इधर, बीडीओ, सीओ एवं थाना अध्यक्ष ने भी विश्वविद्यालय के कुल सचिव को पत्र देकर विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार को खुलवाने का आग्रह किया है। जिससे आमलोगों को आने-जाने में सहुलियत हो सके। मौके पर पीयूष पुष्कर, माले नेता रविन्द्र ङ्क्षसह, सुरेश कुमार, अखिलेश ङ्क्षसह, राजाराम ङ्क्षसह, आइसा नेता गंगा प्रसाद पासवान, मो. शमीम,अजय कुमार, रवि रौशन, राहुल कुमार, मनीष कुमार सहित दर्जनों लोग मौजूद थे।

 

Edited By: Murari Kumar