पटना [राज्य ब्यूरो]। देश को हिलाकर रख देने वाले मुजफ्फरपुर के बालिका गृह यौन हिंसा कांड में तत्‍कालीन समाज कल्‍याण मंत्री मंजू वर्मा व उनके पति से सीबीआइ पूछताछ कर चुकी है। लेकिन, मंजू वर्मा अकेली पूर्व मंत्री नहीं, जो सीबीआइ के रडार पर हैं। समाज कल्‍याण विभाग में मंत्री रहे दामोदर राउत भी अब सीबीआइ के रडार पर आ गए हैं, जिसने कभी भी पूछताछ हो सकती है। इस बीच दामोदर राउत के बेटे राजीव राउत का भी ब्रजेश कनेक्शन सामने आने के बाद जदयू ने उन्‍हें पार्टी से बाहर कर दिया है
प्रावधानों की अवहेलना कर दिया था टेंडर
बताया जाता है कि पूर्व मंत्री दामोदर राउत ने अपने कार्यकाल में ब्रजेश ठाकुर तथा उसकी राजदार मधु के एनजीओ को प्रावधानों से विपरीत जाकर महिला शेल्टर होम और बालिका गृह के संचालन का दायित्व सौंपा था। सूत्र बताते हैं कि पूर्वमंत्री के कार्यकाल में ही ब्रजेश ठाकुर के एनजीओ को बड़े पैमाने पर टेंडर उपलब्ध कराया गया था। साथ ही उसे करोड़ों की सरकारी धनराशि भी उपलब्ध कराई गई।
सीडीआर से मिले संपर्क के साक्ष्‍य
सीबीआइ सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ब्रजेश ठाकुर के मोबाइल फोन के कॉल डिटेल रिकॉर्ड (सीडीआर) में उक्त पूर्वमंत्री और ब्रजेश ठाकुर के बीच लगातार बातचीत के साक्ष्य पाए गए हैं। यहां तक कि ब्रजेश ठाकुर अपनी गिरफ्तारी से ठीक पहले तक उक्त पूर्वमंत्री के संपर्क में था।
ब्रजेश के होटले में ठहरा था मंत्री का बेटा
सीबीआई के हाथ वे साक्ष्य भी लगे हैं, जिससे ब्रजेश के मुजफ्फरपुर स्थित होटल में उनके व बेटे के ठहरने और मौज मस्ती की पुष्टि होती है। दोनों से सीबीआइ जल्द ही पूछताछ कर सकती है।

Posted By: Amit Alok

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप