मुजफ्फरपुर, जेएनएन। पीजी में सत्र 2018-19 में नामांकन के लिए बढ़ीं सीटों का लाभ लेने वालों को अभी और इंतजार करना पड़ेगा। 20 फीसद सीटों में बढ़ोतरी का फैसला होने के बावजूद प्रभारी कुलपति से मंजूरी के बाद ही वह प्रभावी हो सकेगा। तब तक नामांकन पुरानी सीटों के आधार पर होगा। उस हिसाब से 24 विषयों में कुल 5336 सीटों पर विवि कॉलेज अपने विभागों में नामांकन लेंगें। इस प्रकार पहली कटऑफ में बढ़ीं सीटों का लाभ नहीं मिलने वाला है। 8 जुलाई से कक्षा आरंभ हो रही हैं और इसको लेकर आननफानन नामांकन का कोरम पूरा किया जा रहा है।

बढ़ीं सीटें लागू हुईं तब भी सबको नहीं मिल पाएगा मौका

पीजी में एडमिशन के लिए 24 हजार छात्रों ने आवेदन किए थे। इनमें 10 हजार विद्यार्थी त्रुटिपूर्ण आवेदन के आधार पर पहले ही रेस से बाहर किए जा चुके हैं। इस प्रकार 14 हजार छात्र नामांकन के लिए योग्य पाए गए हैं। बावजूद सबको नामांकन का मौका नहीं मिल सकेगा। इसीलिए कटऑफ से एडमिशन की व्यवस्था लागू की गई है। इसके आधार पर विद्यार्थियों की छंटनी होगी। जो बच जाएंगे उन्हें बढ़ी हुई सीटों का लाभ मिल सकता है। लेकिन, यह तभी संभव है जब प्रभारी कुलपति से उन सीटों पर एडमिशन की मंजूरी प्राप्त हो जाए। एडमिशन सेल ने अपनी तरफ से बढ़ीं सीटों का एलान कर रखा है।

पहले 7 जुलाई तक प्रस्तावित था नामांकन

पहले 7 जुलाई तक नामांकन प्रस्तावित था। मगर, आननफानन तिथि पांच दिन घटा दी गई है। गुरुवार को ही आपात बैठक बुलाई गई और घोषणा की गई कि अब दो जुलाई तक ही पीजी में नामांकन लिया जाएगा।

 

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस