पूर्वी चंपारण, जेएनएन। Bihar lockdown news : अनलॉक के दौरान कोरोना संक्रमण के बाद फिर से लॉकडाउन लगने के कारण 95 प्रतिशत वाहन भी घरों में ही कैद होकर रह गए है। इससे पेट्रोल व डीजल की मांग में जबरदस्त कमी दिखने को मिल रही है। नगर थाना स्थित भारत पेट्रोलियम पम्प के मैनेजर संजय कुमार उर्फ बिजली सिंह का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से मात्र 15 से 20 प्रतिशत ही पेट्रोल व डीजल की बिक्री हो रही है। पहले प्रतिदिन 2000 लीटर पेट्रोल और 1000 लीटर डीजल बिक जाता था। लेकिन, अब मांग कम हो गई है। वर्तमान में 70-80 फीसद ग्राहक कम हो गए हैं। जिस दिन पुलिस चेकिंग बढ़ा देती है, उस दिन भी लोग का आवागमन कम हो जाता है, जिससे पेट्रोल व डीजल की बिक्री में कमी हो जाती है। उन्होंने बताया कि वैसे अभी उनलोगों का फोकस व्यवसाय पर नहीं, जनता की सुरक्षा पर है। लोग स्वस्थ रहेंगे तो फिर पेट्रोल पम्प पर आएंगे। इसलिए वे लोग भी यह संदेश फैला रहे हैं कि ज्यादा आवश्यक हो तभी घर से निकलें।

मास्क पहनने पर ही तेल दिया जा रहा

चांदमारी चौक स्थित इंडियन ऑयल पम्प के मालिक सुधांशु रंजन का कहना कि लॉकडाउन के कारण पेट्रोल-डीजल की बिक्री में कमी आई है। लेकिन, इसके कारण जो घाटा हो रहा है, वह क्षणिक है। क्षणिक लाभ के लिए पूरे जीवन का घाटा नहीं सहा जा सकता है। लेकिन, अभी जितने भी ग्राहक आ रहे उन्हें मास्क पहनने पर ही तेल दिया जा रहा है। कर्मी भी बिना मास्क के नहीं रहते। लॉकडाउन से पहले प्रतिदिन 4000 लीटर पेट्रोल एवं 3000 लीटर डीजल बिकता था। लेकिन अभी 1400-1500 लीटर ऑयल बिक रहा है। जो लॉकडाउन के पहले से लगभग 40 प्रतिशत हो गया है। साथ ही एसएमएस अभियान को अपनाना होगा। इसमें एस का अर्थ शारीरिक दूरी, एम का अर्थ मास्क और एस का अर्थ सैनेटाइजर है। इन तीनों को अपनाकर ही कोरोना को भगाना होगा।  

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस