समस्तीपुर, जागरण संवाददाता। जिले के 58 हजार 126 राशन कार्ड का सरकार ने होल्ड कर रखा है। इन राशन कार्डधारियों का नाम, पिता का नाम और पता आधार कार्ड से मैच नहीं कर रहा है। जब तक दोनों मैच नहीं करेगा, इन्हें सरकार राशन नहीं देगी। फर्जी तरीके से राशन कार्ड लेने वालों को हटाने के लिए यह कार्रवाई की गई है।

बता दें कि जिले में 8 लाख 50 हजार 639 राशन कार्डधारी हैं। सभी राशन कार्डधारियों को आधार से लिंक करने का निर्देश दिया गया था। इस दौरान काफी गड़बड़ी पाई गई थी। बहुत सारे लोगों का राशन कार्ड और आधार कार्ड मैच नहीं कर रहा था। ऐसे में सरकार का मानना है राशन कार्ड जिसके नाम से है, वह राशन नहीं उठा रहा है। बल्कि दूसरा व्यक्ति उसके नाम से राशन का उठाव कर रहा है। इस तरह का मामला आने के बाद राशन कार्ड में फर्जीवाड़ा को पकड़ने के लिए सरकार के निर्देश पर समस्तीपुर जिले में 58 हजार 126 राशन कार्डधारियों की पहचान की गई। जिसमें समस्तीपुर अनुमंडल में 30 हजार 972, पटोरी अनुमंडल में 2621, रोसड़ा अनुमंडल में 18 हजार 651 और दलसिंंहसराय अनुमंडल में 5 हजार 882 राशन कार्ड शामिल है। इन सभी राशन कार्ड को होल्ड पर रखा गया है। जिनका राशन कार्ड होल्ड पर रखा गया है, उन्हें तब तक राशन नहीं मिलेगी, जब तक उनके राशन कार्ड और आधार नंबर की जांच कर स्वीकृति नहीं दे दी जाती।

अनुमंडल पदाधिकारियों को दिया गया है जांच कर कार्रवाई का निर्देश

बताया जाता है कि राशन कार्ड और आधार कार्ड में मामूली त्रुटि है तो उसका निराकरण त्वरित कर दिया जाएगा। इसके लिए अनुमंडल पदाधिकारी को अधिकृत किया गया है। अनुमंडल पदाधिकारियों के द्वारा प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के माध्यम से इन राशन कार्डधारियों की जांच की जा रही है। 9 जून तक यह कार्य हर हाल में पूरा कर लेना है। 9 जून के बाद जिनका राशन कार्ड सही पाया जाएगा, उन्हें राशन मिलने लगेगा। बताया जाता है कि बहुत सारे कार्डधारियों के राशन कार्ड और आधार कार्ड में नाम, पिता का नाम, पति का नाम, पता आदि में अंतर पाया गया है। जिसके कारण यह कार्रवाई की गई है। जिनके राशन कार्ड को होल्ड पर रखा गया है, वे अपने प्रखंड के प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी से संपर्क कर सकते हैं। जिला आपूर्ति पदाधिकारी महबूब आलम ने बताया कि फर्जीवाड़ा कर कई लोगों ने राशन कार्ड बना रखा है। उसको पकड़ने और उसके कार्ड को निरस्त करने के लिए यह कार्रवाई राज्य सरकार के निर्देश पर की जा रही है। मामूली अंतर पाए जाने पर अनुमंडल पदाधिकारी के स्तर से इसका त्वरित निराकरण कर दिया जाएगा लेकिन बहुत बड़ा अंतर पाया जाता है तो ऐसी स्थिति में वैसे व्यक्तियों का राशन कार्ड निरस्त कर दिया जाएगा। 

Edited By: Ajit Kumar