पश्‍च‍िम चंपारण, जासं। जिले के बगहा में गन्ना उद्योग विभाग के मंत्री प्रमोद कुमार ने कहा कि बिहार के किसानों को उन्नतशील बनाने के लिए सरकार लगातार प्रयत्नशील है। विभाग के अधिकारी व कृषि वैज्ञानिक दूसरे प्रदेशों का भ्रमण कर गन्ने के उन्नत प्रभेद की जानकारी ले रहे जो बिहार की भूमि के अनुकूल हैं। किसानों को द्विफसलीकरण के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा। गन्ने के साथ चना, मसूर, सरसों आदि फसलों की खेती के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया जा रहा। वे विभाग के द्वारा आयोजित एक दिवसीय किसान कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। कार्यशाला की अध्यक्षता चीनी मिल के प्रबंध निदेशक सह भाजपा नेता दीपक यादव ने की। इससे पूर्व गन्ना मंत्री, विभाग के सचिव गिरिवर दयाल स‍िंह, सहायक निर्देशक आदि ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर गोष्ठी का शुभारंभ किया। गोष्ठी का संचालन गन्ना महाप्रबंधक बीएन त्रिपाठी ने किया।

मंत्री श्री कुमार ने कहा कि सूबे के दो चीनी मिलों को छोड़कर सभी चीनी मिलों ने गन्ने मूल्य का शत भुगतान एक महीना पूर्व कर दिया है। किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए सरकार तरह-तरह की योजनाएं चला रही है। अभी जो किसान इस गोष्ठी में सरकार के बुलावा पर आए हैं । उन्हें यात्रा भत्ता के रूप में 100 रुपये उनके खाते में भेजी जाएगी। कीटनाशक पर भी 50 फ़ीसदी अनुदान किसानों को दिया जाएगा। गन्ने के जूस से एथेनॉल बनेगा। इससे 20-25 फीसद पेट्रोल तैयार किया जाएगा। गन्ने की मूल्य में भी वृद्धि के लिए अधिकारी और चीनी मिल मंथन कर रहे हैं। पहली बार फसल क्षति की मुआवजा को सरकार ने अपने एजेंडे में शामिल किया है।

आनलाइन आवेदन करने वाले किसानों को 18000 रुपये प्रति हेक्टेयर की दर से मुआवजा दिया जाएगा। स‍िंचाई के लिए मोटर और सोलर मोटर पर भी किसान को अनुदान दिया जा रहा। उधर, ईख आयुक्त गिरिवर दयाल  स‍िंंह ने कहा कि गन्ना की घटतौली को रोकके लिए उडऩदस्ता दल का गठन किया गया है। राज्यस्तरीय कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। जिसमें किसान शिकायत दर्ज करा सकते हैं। सर्वोच्च न्यायालय के आदेश अनुसार 14 दिनों में गन्ने मूल्य का भुगतान करने का आदेश दिया गया है।

यूपी और महाराष्ट्र की तर्ज पर बिहार को भी गन्ना उत्पादन के ²ष्टिकोण से ऊंचाई पर ले जाना है। चीनी मिल के एमडी दीपक यादव ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि 12 साल तक मैं इस चीनी मिल सींचा है। जिसका परिणाम आप लोगों के सामने है। पहली बार सरकार बाढ़ से क्षति गन्ने की फसल की मुआवजा देने की घोषणा की है। इसके लिए चीनी मिल के परिसर में एक कार्यालय किसानों की सहूलियत के लिए खुलेगा। गन्ना मंत्री 15023 गन्ने की प्रभेद को अनुदान की श्रेणी में शामिल करने का निर्णय लिया है। बगहा चीनी मिल के पास इस प्रभेद का बीज सबसे अधिक उपलब्ध है। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री ने एथनाल स्कीम पारित किया है। इसके लिए चीनी मिल के पीछे प्लांट लगाया जा रहा है। उक्त किसान गोष्ठी में सहायक निर्देशक ईख विभाग कुंवर स‍िंह, संयुक्त आयुक्त जयप्रकाश नारायण स‍िंह, ईख पदाधिकारी वेदव्रत कुमार, कमर्शियल मैनेजर सौरभ गुप्ता, गन्ना प्रबंधक अरुण कुमार, जीएम अशोक शर्मा, किसान पप्पू गुप्ता, छोटे श्रीवास्तव, राजकुमार गुप्ता, मोतीलाल कुशवाहा, धनंजय यादव, रामप्रताप आदि शामिल थे।