दरभंगा, जासं। Darbhanga Flight Service: मौसम की मार का असर इन दिनों आम जनजीवन के साथ उड़ान सेवाओं पर भी देखने को मिल रहा है। आसमान में घने कोहरे के कारण लगातार छठें दिन भी दरभंगा एयरपोर्ट से विमान सेवा प्रभावित है। सेवा प्रदाता कंपनी स्पाइस जेट के ‌ट्विटर हैंडल से यात्रियों को यह जानकारी साझा की गई है कि खराब मौसम के कारण दरभंगा एयरपोर्ट से सभी उड़ानें प्रभावित रह सकती है। बता दें कि उड़ान सेवा के प्रभावित रहने के कारण दरभंगा और आसपास के 22 जिलों के यात्रियों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। दरभंगा से दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरू और अहमदाबाद जाने वाली फ्लाइट्स के यात्री पिछले कई दिनों मायूस है। हालांकि, यात्रियों की इच्छा पर सेवा प्रदाता कंपनी उनके टिकट को अगले दिन के लिए मान्य कर रही है। 

लो विजिबलिटी के कारण हो रही समस्या

दरभंगा एयरपोर्ट पर लो बिजिबलिटी के कारण विमानों की लैंडिग और टेक-ऑफ में समस्या आ रही है। एयरपोर्ट पर आइएलएस सिस्टम के नहीं रहने के कारण यह समस्या हो रही है। यात्रियों ने सरकार से अनुरोध किया है कि दरभंगा एयरपोर्ट को जल्द अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस किया जाए, ताकि सालों भर यहां से विमानों का परिचालन हो सके।

माता सीता के जन्म स्थान का होगा विकास : मंत्री 

जाले : अयोध्या में बन रहे भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण ने देश को एक संदेश दिया है। ठीक उसी तरह से देवी सीता के जन्म स्थान का भी विकास होगा। उपरोक्त बातें सूबे के पर्यटन श्रम संसाधन एवं खान व भूतत्व मंत्री जीवेश कुमार ने शनिवार को एमकेएस कॉलेज चंदौना के सभागार में आयोजित अभिनंदन समारोह में कही। कहा कि वे माता जानकी जन्मभूमि सीतामढ़ी स्थित पुनोरा धाम का दर्शन करेंगे। वहां की हर स्थिति का निरीक्षण करेंगे। फिर संबंधित स्थान के विकास के लिए कोशिश की जाएगी। संबोधन में महाविद्यालय में अपने अध्ययन काल के कई उदाहरण भी दिए। कहा -अपनी शिक्षा को पूरा करने के लिए छात्रों को ट््यूशन तक पढ़ाया है। बेरोजगारी को करीब से देखा है। 20 लाख युवाओं को रोजगार देने का लक्ष्य रखा है। इसको लेकर ब्लू ङ्क्षप्रट तैयार कर लिया है। जल्द ही  कुशल युवा कार्यक्रम के तहत स्किल डेवलापमेंट के तहत दुनिया के अलग-अलग देशों की भाषाओं की भी शिक्षा की व्यवस्था कराई जा रही है। वहीं गल्फ कंट्री में दाहिने ओर गाड़ी चलाने की नीति को आत्मसात कर दाहिनी ओर ड्राइङ्क्षवग का भी प्रशिक्षण देने की व्यवस्था कराई जा रही है। मौके पर महाविद्यालय के पूर्व शिक्षक  प्रोफेसर डॉ परमानंद चौबे ने मैकाले शिक्षा नीति से देश के छात्रों के शिक्षा में आ रही गिरावट की चर्चा करते हुए जल्द से जल्द नई भारतीय शिक्षा नीति लागू किए जाने की बात कही। महाविद्यालय के प्राचार्य नवीन कुमार ने मंत्री जीवेश कुमार को मोमेंटो, पाग व चादर देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम से पूर्व मंत्री ने नवनिर्मित सभागार का उद्घाटन फीता काट कर किया। समारोह को ममता कुमारी, बबिता कुमारी, मोहन पासवान समेत कई वक्ताओं ने संबोधित किया।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप